Monday, November 9, 2015

Essence of Murli 09-11-2015

09/11/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, you are students of this spiritual university. Your duty is to give the Father's message to the whole universe. 

Question: What do you children beat the drums about and what do you explain to everyone?

Answer: You beat the drums to tell everyone that the new divine kingdom is once again being established and that all the innumerable religions are now to be destroyed. You tell everyone to remain carefree because this is an international problem. The war will definitely take place and the divine kingdom will come after that.

Om Shanti. This is the spiritual university. Souls from the whole universe study in a university. Universe means the world. Legally, the word "university" applies to you children. This is a spiritual university. This cannot be a physical university. This is the only one, Godfatherly University. All souls receive lessons. This message of yours should definitely reach everyone in one way or another. You have to give this message. This message is very simple. You children know that He is our unlimited Father, the One whom everyone remembers. You can also say that He is your unlimited Beloved and that all souls, living beings, in the world definitely remember that one Beloved. You have to imbibe these points very well. Those who have fresh intellects will be able to imbibe everything very well. The Father of all the souls of the universe is just the One. Only human beings study in a university. You children also know that you are the ones who take 84 births. There is no question of 8.4 million births. All the souls of the universe are impure at this time. This dirty world is the land of sorrow. Only the one Father takes you to the land of happiness. He is also called the Liberator. You are becoming the masters of the whole world and the universe. The Father tells you all: Go and give this message to everyone. Everyone remembers the Father. He is called the Guide, the Liberator and the Merciful One. There are many languages. All souls call out to the One. Therefore, that One is also the Teacher of the whole universe. He is the Father anyway, but no one knows that He is also the Teacher and the Guru of all of us souls. He also guides everyone. Only you children know the unlimited Guide. No one but you Brahmins knows Him. Only you understand what a soul is. Not a single human being in the world understands what a soul is. No one in the world in general, and Bharat in particular, understands what a soul is. Although they say that a wonderful star sparkles in the centre of the forehead, they don't understand anything. You now understand that souls are imperishable. This soul never becomes larger or smaller. Just as you are a soul, so the Father, too, is just a point; He is no larger or smaller. He too is a soul, but He is the Supreme Soul, the Supreme. Truly, all souls reside in the supreme abode. They come here to play their parts. Then they try to go back to their supreme abode. Everyone remembers the Supreme Father, the Supreme Soul, because it is only the Supreme Father who takes souls into liberation: this is why they remember Him. Souls have become tamopradhan. Why do they remember Him? They don't even know this. A baby says, "Baba", that's all; he doesn't know anything. Similarly, you also say, "Baba, Mama", but you don't know anything. There used to be one nationality in Bharat and that was called the deity nationality. Later on, many other nationalities entered. Now there are so many nationalities, and this is why there is so much fighting etc. Wherever there are many other nationalities, the residents keep trying to get them out. There is so much fighting. There is also a lot of darkness. There has to be some limit. There is a limit to the number of actors. This play is predestined. However many actors there are, there can be no more or no less than that number. When all the actors have come onto the stage, they then have to return home. All the actors who still remain up there are continuing to come down here. No matter how much they beat their heads to control the population, they are unable to do so. Tell them: We BKs have such birth control that only 900,000 will remain. The whole population will be reduced. We are telling you the truth; we are now establishing that world. The new world, the new tree, will definitely be small. No one here can control this, because the world is becoming more and more tamopradhan. The population continues to increase. All the actors that are yet to come will come here and adopt bodies. No one understands these things. Those with shrewd intellects understand that there will be all types of actors in the kingdom. The kingdom that existed in the golden age is once again being established. You will then be transferred. You are now being transferred from the tamopradhan to the satopradhan class. You are going from the old world to the new world. Your study is not for this world. There cannot be any other such university. God, the Father, says: I am teaching you for the land of immortality. This land of death has to be destroyed. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age. No one knows how it was established. Baba always says: You must definitely have the picture of Lakshmi and Narayan whenever you go to give a lecture. The date must also be written on that. You can explain that from the beginning of the new world it was that dynasty’s kingdom for 1250 years. Similarly, it is said: There was the kingdom of the Christian dynasty; they continue to follow one another. When the deity dynasty existed, there was no one else. This dynasty is now once again being established. Everyone else has to be destroyed. War is standing just ahead. The stories in the Bhagawad etc. are based on this. We used to listen to these stories in our childhood. You now understand how the kingdom is established. The Father definitely taught us Raja Yoga. Those who pass become the beads of the rosary of victory, whereas others don't know this rosary at all. Only you know this. Your path is the family path. Baba is standing above. He doesn't have a body of His own. Then there are Brahma and Saraswati, who become Narayan and Lakshmi. First, there has to be the Father and then the couple. There are the beads of Rudraksh. In Nepal they have a tree from which they take the beads of Rudraksh. There are some real ones in that; the tinier they are, the more expensive they are. You now understand the meaning of this. The rosary of Vishnu, of victory, which means the rosary of Runda, is created. Those people simply turn the beads of a rosary and chant the name of Rama, but there is no meaning to that. They continue to turn the beads of a rosary. Here, the Father says: Remember Me! This is the soundless chant. You don't have to say anything with your mouth. Songs too are physical. You children simply have to remember the Father. Otherwise, you will continue to remember songs. The main thing here is remembrance. You have to go beyond sound. The Father's direction is: Manmanabhav! The Father doesn't ask you to sing songs or speak out loud. There is no need to sing My praise. You know that He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace and Happiness. Human beings don't understand this. They have simply given Him that name. No one, apart from you, knows this. The Father comes and tells you His name and form. He explains what He is like and what you souls are like. You have made a lot of effort playing your parts. You have been doing devotion for half the cycle. I don't play such a part. I am beyond happiness and sorrow. You experience sorrow and then, in the golden age, you experience happiness. Your parts are higher than Mine. I sit up there comfortably for half the cycle in the stage of retirement. You continue to call out to Me. It isn't that I hear your call when I'm sitting there. My part is at this time. I know the part in the drama. The drama is now coming to an end. I have to come and play the part of purifying impure ones and nothing else. People believe that because the Supreme Soul is the Almighty Authority He knows what is within everyone. They think that He knows what is happening inside each one. The Father says: It is not like that. When you have become completely tamopradhan, it is then the accurate time for Me to come. I enter an ordinary body. I come and liberate you children from sorrow. There is establishment of the one religion through Brahma and destruction of innumerable religious through Shankar. After the cries of distress, there will be the cries of victory. There will be so much distress! People will continue to die in calamities. A lot of help is received from the natural calamities. Otherwise, human beings would become very diseased and experience a lot of sorrow. The Father says: In order that the children don't continue to experience sorrow, natural calamities come with so much force that they destroy everyone. The bombs are nothing! The natural calamities help a great deal. So many people die in earthquakes. Waves of water will come once or twice and they will die. There will be huge ocean waves; one hundred foot waves will swallow up the earth. What will then happen? These will be scenes of distress. A great deal of courage is needed to watch such scenes. You also have to make effort and become fearless. You children must have no arrogance at all. Become soul conscious! Those who remain soul conscious are very sweet. The Father says: I am incorporeal and unique. I come here to serve everyone. Just see how much people praise Me. The Ocean of Knowledge. Oh Baba! Then, they say: Come into the impure world! You give Me a very good invitation! You don't even ask Me to come to heaven to see the happiness there! You call out: O Purifier, we are impure! Come and make us pure! Look at the invitation you give Me! You invite Me into a completely tamopradhan and impure world and an impure body! You people of Bharat give Me a very good invitation! Such is the significance of the drama. This one didn't know that this was the last of his many births. It was only when Baba entered him that he was told. Baba has explained the significance of everything. Brahma had to become His wife. Baba Himself says: This one is My wife. I enter him and adopt you through him. This one is the true senior mother and that one is the adopted mother. You can call them "Mother and Father". You only say "Father" to Shiv Baba. This one is Brahma Baba. Mama is incognito. Brahma is the mother, but he has the body of a male. He is unable to look after you and this is why the daughter was adopted. She has been given the name Mateshwari, Saraswati. She is the head. According to the drama, there is only one Saraswati, but there are many names: Durga, Kali etc. There can only be one Mother and Father. All of you are the children. It is remembered that Saraswati is the daughter of Brahma. You are Brahma Kumars and Kumaris. Many names have been given to you. Those of you who understand all of these things also understand them, numberwise. In a study, everyone is numberwise; one cannot be the same as another. This kingdom is being established. This drama is predestined. It has to be understood in great detail. There are many points. Even those who study to become barristers are numberwise. Some barristers can earn two to three hundred thousand whereas others wear torn clothes. It is the same here. It has been explained to you children that there is to be an international problem. You now have to tell everyone to remain carefree. The war will definitely take place. You beat the drums to say that the new divine kingdom is once again being established. There will be destruction of the innumerable religions. This is so clear! All these people are created through Prajapita Brahma. He says: These are my mouth-born creation. You are mouth- born Brahmins. Those brahmins are born through vice. They are worshippers whereas you are now becoming worthy of worship. You know that you are becoming the deities who are worthy of worship. You don't have a crown of light on you now. When you souls become pure you will leave your bodies. You can’t be given a crown of light while in your present bodies; that wouldn't suit you. At this time you are only worthy of praise. No soul is pure at this time and this is why there can’t be light on anyone at this time. The light exists in the golden age. This light shouldn’t even be shown on those who have two degrees less. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for Dharna:

1. Make your stage so unshakeable and fearless that you are able to witness the final scenes of destruction. Make effort to become soul conscious.

2. In order to claim a high status in the new kingdom, pay full attention to your study. Pass and become a bead of the rosary of victory.

Blessing: May you be dressed in the costume of the subtle region by remaining beyond the awareness of the physical land and body. 

In today’s world, someone’s uniform is according to his duty. Similarly, you also have to adopt a dress according to the actions you have to perform at any time. One minute, be corporeal and the next minute, be subtle. Become one with many forms in this way and you will be able to experience the happiness of all forms. This is your own form. The clothes of someone else may or may not fit you, but you can wear your own clothes easily. Therefore, put this blessing into practice and you will be able to have the unique experience of an avyakt meeting.

Slogan: Only those who respect everyone can become examples. Give respect and you will receive respect.

09-11-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - तुम इस रूहानी युनिवर्सिटी के स्टूडेण्ट हो, तुम्हारा काम है सारी युनिवर्स को बाप का मैसेज देना'' 

प्रश्न: अभी तुम बच्चे कौन सा ढिंढोरा पीटते और कौन सी बात समझाते हो?

उत्तर: तुम ढिंढोरा पीटते हो कि यह नई दैवी राजधानी फिर से स्थापन हो रही है। अनेक धर्मो का अब विनाश होना है। तुम सबको समझाते हो कि सब बेफिकर रहो, यह इन्टरनेशनल रोला है। लड़ाई जरूर लगनी है, इसके बाद दैवी राजधानी आयेगी।

ओम् शान्ति।

यह है रूहानी युनिवर्सिटी। सारे युनिवर्स की जो भी आत्मायें हैं, युनिवर्सिटी में आत्मायें ही पढ़ती हैं। युनिवर्स अर्थात् विश्व। अब कायदे अनुसार युनिवर्सिटी अक्षर तुम बच्चों का है। यह है रूहानी युनिवर्सिटी। जिस्मानी युनिवर्सिटी होती ही नहीं। यह एक ही गॉड फादरली युनिवर्सिटी है। सभी आत्माओं को लेसन मिलता है। तुम्हारा यह पैगाम कोई न कोई प्रकार से सबको जरूर पहुँचना चाहिए, मैसेज देना है ना और यह मैसेज बिल्कुल सिम्पुल है। बच्चे जानते हैं वह हमारा बेहद का बाप है, जिसको सब याद करते हैं। ऐसे भी कहें वह हमारा बेहद का माशूक है, जो भी विश्व में जीव आत्मायें हैं वह उस माशूक को याद जरूर करती हैं। यह प्वाइंट्स अच्छी रीति धारण करनी है। जो फ्रेश बुद्धि होंगे वह अच्छी रीति धारण कर सकेंगे। युनिवर्स में जो भी आत्मायें हैं उन सबका बाप एक ही है। युनिवर्सिटी में तो मनुष्य ही पढ़ेंगे ना। अभी तुम बच्चे यह भी जानते हो - हम ही 84 जन्म लेते हैं। 84 लाख की तो बात ही नहीं। युनिवर्स में जो भी आत्मायें हैं, इस समय सब पतित हैं। यह है ही छी-छी दुनिया, दु:खधाम। उसे सुखधाम में ले जाने वाला एक ही बाप है, उनको लिबरेटर भी कहते हैं। तुम सारे युनिवर्स वा विश्व के मालिक बनते हो ना। बाप सबके लिए कहते हैं यह मैसेज पहुँचाकर आओ। बाप को सब याद करते हैं, उनको गाइड, लिबरेटर, मर्सीफुल (रहमदिल) भी कहते हैं। अनेक भाषायें हैं ना। सभी आत्मायें एक को पुकारती हैं तो वह एक ही सारी युनिवर्स का टीचर भी हुआ ना। बाप तो है ही परन्तु यह किसको पता नहीं कि वह हम सब आत्माओं का टीचर भी है, गुरू भी है। सबको गाइड भी करते हैं। इस बेहद के गाइड को सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो। तुम ब्राह्मणों के सिवाए और कोई नहीं जानते। आत्मा को भी तुमने जाना है कि आत्मा क्या चीज़ है। दुनिया में तो एक भी मनुष्य नहीं, खास भारत आम दुनिया किसको भी पता नहीं कि आत्मा क्या चीज़ है। भल कहते हैं भ्रकुटी के बीच चमकता है अजब सितारा। परन्तु समझ कुछ नहीं। अभी तुम जानते हो आत्मा तो अविनाशी है। वह कभी बड़ी या छोटी नहीं होती। जैसे तुम्हारी आत्मा है, बाप भी वही बिन्दी है। बड़ा छोटा नहीं। वह भी है आत्मा सिर्फ परम आत्मा है, सुप्रीम है। बरोबर सभी आत्मायें परमधाम में रहने वाली हैं। यहाँ आती हैं पार्ट बजाने। फिर अपने परमधाम जाने की कोशिश करते हैं। परमपिता परमात्मा को सब याद करते हैं क्योंकि आत्माओं को परमपिता ने ही मुक्ति में भेजा था तो उनको ही याद करते हैं। आत्मा ही तमोप्रधान बनी है। याद क्यों करते हैं? इतना भी पता नहीं। जैसे बच्चा कहेगा – “बाबा”, बस। उनको कुछ भी पता ही नहीं। तुम भी बाबा मम्मा कहते हो, जानते कुछ नहीं हो। भारत में एक नेशनल्टी थी, उनको डीटी नेशनल्टी कहा जाता है। फिर बाद में और भी उनमें इन्टर हुए हैं। अभी कितने ढेर हो गये हैं, इसलिए इतने झगड़े आदि होते हैं। जहाँ-जहाँ जास्ती घुस गये हैं, उनको वहाँ से निकालने की कोशिश करते रहते हैं। बहुत झगड़े हो गये हैं। अन्धियारा भी बहुत हो गया है। कुछ तो लिमिट भी होनी चाहिए ना। एक्टर्स की लिमिट होती है। यह भी बना बनाया खेल है। इसमें जितने भी एक्टर्स हैं, उसमें कम जास्ती हो न सके। जब सब एक्टर्स स्टेज पर आ जाते हैं फिर उनको वापिस भी जाना है। जो भी एक्टर्स रहे हुए होंगे, आते रहेंगे। भल कितना भी कन्ट्रोल आदि करने के लिए माथा मारते रहते हैं, परन्तु कर नहीं सकते। बोलो, हम बी.के. ऐसा बर्थ कन्ट्रोल कर देते हैं जो बाकी 9 लाख जाकर रहेंगे। फिर सारी आदमशुमारी ही कम हो जायेगी। हम आपको सत्य बताते हैं, अब स्थापना कर रहे हैं। नई दुनिया, नया झाड़ जरूर छोटा ही होगा। यहाँ तो यह कन्ट्रोल कर नहीं सकेंगे क्योंकि तमोप्रधान और होता जाता है। वृद्धि होती जाती है। एक्टर्स जो भी आने वाले हैं, यहाँ ही आकर शरीर धारण करेंगे। इन बातों को कोई समझते नहीं हैं। शुरूड़ बुद्धि समझते हैं राजधानी में तो हर प्रकार के पार्टधारी होते हैं। सतयुग में जो राजधानी थी वह फिर से स्थापन हो रही है। ट्रांसफर हो जायेंगे। तुम अभी तमोप्रधान से सतोप्रधान क्लास में ट्रांसफर होते हो। पुरानी दुनिया से नई दुनिया में जाते हो। तुम्हारी पढ़ाई इस दुनिया के लिए नहीं है। ऐसी युनिवर्सिटी और कोई हो न सके। गॉड फादर ही कहते हैं हम तुमको अमरलोक के लिए पढ़ाते हैं। यह मृत्युलोक खलास होना है। सतयुग में इन लक्ष्मी-नारायण की राजधानी थी। यह स्थापन कैसे हुई, यह किसको पता नहीं है।

बाबा हमेशा कहते हैं जहाँ तुम भाषण करते हो तो यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र जरूर रखो। इनमें डेट भी जरूर लिखी हुई हो। तुम समझा सकते हो कि नये विश्व की शुरूआत से 1250 वर्ष तक इस डिनायस्टी का राज्य था। जैसे कहते हैं ना - क्रिश्चियन डिनायस्टी का राज्य था। एक दो के पिछाड़ी चले आते हैं। तो जब ये देवता डिनायस्टी थी तो दूसरा कोई था नहीं। अब फिर यह डिनायस्टी स्थापन हो रही है। बाकी सबका विनाश होना है। लड़ाई भी सामने खड़ी है। भागवत आदि में इस पर भी कहानी लिख दी है। छोटेपन में यह कहानियां आदि सुनते रहते थे। अभी तुम जानते हो यह राजाई कैसे स्थापन होती है। जरूर बाप ने ही राजयोग सिखाया है। जो पास होते हैं वह विजय माला का दाना बनते हैं और कोई इस माला को जानते नहीं। तुम ही जानते हो। तुम्हारा प्रवृत्ति मार्ग है। ऊपर में बाबा खड़ा है, उनको अपना शरीर है नहीं। फिर ब्रह्मा सरस्वती सो लक्ष्मी-नारायण। पहले चाहिए बाप फिर जोड़ा। रूद्राक्ष के दाने होते हैं ना। नेपाल में एक वृक्ष है, जहाँ से यह रूद्राक्ष के दाने आते हैं। उनमें सच्चे भी होते हैं। जितना छोटे उतना दाम बहुत। अभी तुम अर्थ को समझ गये हो। यह विष्णु की विजय माला अथवा रूण्ड माला बनती है। वो लोग तो सिर्फ माला फेरते-फेरते राम-राम करते रहेंगे, अर्थ कुछ भी नहीं। माला का जाप करते हैं। यहाँ तो बाप कहते हैं मुझे याद करो। यह है अजपाजाप। मुख से कुछ बोलना नहीं है। गीत भी स्थूल हो जाता है। बच्चों को तो सिर्फ बाप को याद करना है। नहीं तो फिर गीत आदि याद आते रहेंगे। यहाँ मूल बात है ही याद की। तुमको आवाज से परे जाना है। बाप का डायरेक्शन है ही मनमनाभव। बाप थोड़ेही कहते हैं गीत गाओ, रड़ी मारो। मेरी महिमा गायन करने की भी दरकार नहीं है। यह तो तुम जानते हो वह ज्ञान का सागर, सुख-शान्ति का सागर है। मनुष्य नहीं जानते। ऐसे ही नाम रख दिये हैं। तुम्हारे सिवाए और कोई भी नहीं जानते। बाप ही आकर अपना नाम रूप आदि बताते हैं - मैं कैसा हूँ, तुम आत्मा कैसी हो! तुम बहुत मेहनत करते हो - पार्ट बजाने। आधाकल्प भक्ति की है, मैं तो ऐसे पार्ट में आता नहीं हूँ। मैं दु:ख सुख से न्यारा हूँ। तुम दु:ख भोगते हो फिर तुम ही सुख भोगते हो - सतयुग में। तुम्हारा पार्ट मेरे से भी ऊंच है। मैं तो आधाकल्प वहाँ ही आराम से बैठा रहता हूँ वानप्रस्थ में। तुम मुझे पुकारते आते हो। ऐसे नहीं कि मैं वहाँ बैठ तुम्हारी पुकार सुनता हूँ। मेरा पार्ट ही इस समय का है। ड्रामा के पार्ट को मैं जानता हूँ। अब ड्रामा पूरा हुआ है, मुझे जाकर पतितों को पावन बनाने का पार्ट बजाना है और कोई बात है नहीं। मनुष्य समझते हैं परमात्मा सर्वशक्तिमान् है, अन्तर्यामी है। सबके अन्दर क्या-क्या चलता है, वह जानते हैं। बाप कहते हैं ऐसे है नहीं। तुम जब बिल्कुल तमोप्रधान बन जाते हो - तब एक्यूरेट टाइम पर मुझे आना पड़ता है। साधारण तन में ही आता हूँ। तुम बच्चों को आकर दु:ख से छुड़ाता हूँ। एक धर्म की स्थापना ब्रह्मा द्वारा, अनेक धर्मो का विनाश शंकर द्वारा...हाहाकार के बाद जयजयकार हो जायेगी। कितना हाहाकार होना है। आफतों में मरते रहेंगे। नेचुरल कैलेमिटीज की भी बहुत मदद रहती है। नहीं तो मनुष्य बहुत रोगी, दु:खी हो जाएं। बाप कहते हैं बच्चे दु:खी न पड़े रहें इसलिए नेचुरल कैलेमिटीज भी ऐसी जोर से आती हैं जो सबको खत्म कर देती हैं। बाम्बस तो कुछ नहीं हैं, नेचुरल कैलेमिटीज बहुत मदद करती हैं। अर्थक्वेक में ढेर खत्म हो जाते हैं। पानी का एक दो घुटका आया यह खत्म। समुद्र भी जरूर उछल खायेगा। धरती को हप करेगा, 100 फुट पानी उछल खाये तो क्या कर देगा। यह है हाहाकार की सीन। ऐसी सीन देखने के लिए हिम्मत चाहिए। मेहनत भी करना है, निर्भय भी बनना है। तुम बच्चों में अहंकार बिल्कुल नहीं होना चाहिए। देही-अभिमानी बनो। देही-अभिमानी रहने वाले बड़े मीठे होते हैं। बाप कहते हैं - मैं तो हूँ निराकार और विचित्र। यहाँ आता हूँ - सर्विस करने के लिए। हमारी बड़ाई देखो कितनी करते हैं। ज्ञान का सागर... हे बाबा और फिर कहते हैं पतित दुनिया में आओ। तुम निमन्त्रण तो बड़ा अच्छा देते हो। ऐसा भी नहीं कहते कि स्वर्ग में आकर सुख तो देखो। कहते हैं हे पतित-पावन हम पतित हैं, हमको पावन बनाने आओ। निमन्त्रण देखो कैसा है। एकदम तमोप्रधान पतित दुनिया और फिर पतित शरीर में बुलाते हैं। बड़ा अच्छा निमन्त्रण देते हैं भारतवासी! ड्रामा में राज़ ही ऐसा है। इनको भी थोड़ेही पता था कि मेरा बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। बाबा ने प्रवेश किया है तब बताते हैं। बाबा ने हर एक बात का राज़ समझाया है। ब्रह्मा को ही वन्नी (पत्नी) बनना है। बाबा खुद कहते हैं - मेरी यह वन्नी है। मैं इनमें प्रवेश कर इन द्वारा तुमको अपना बनाता हूँ। यह सच्ची- सच्ची बड़ी माँ हो गई और वह एडाप्टेड मॉ ठहरी। मॉ बाप तुम इनको कह सकते हो। शिवबाबा को सिर्फ फादर ही कहेंगे। यह है ब्रह्मा बाबा। मम्मा गुप्त है। ब्रह्मा है मॉ परन्तु तन पुरूष का है। यह तो सम्भाल नहीं सकेंगे इसलिए एडाप्ट किया है बच्ची को। नाम रख दिया है मातेश्वरी। हेड हो गई। ड्रामा अनुसार है ही एक सरस्वती। बाकी दुर्गा, काली आदि सब अनेक नाम हैं। मॉ बाप तो एक ही होते हैं ना। तुम सब हो बच्चे। गायन भी है ब्रह्मा की बेटी सरस्वती। तुम ब्रह्माकुमार कुमारियां हो ना। तुम्हारे ऊपर नाम बहुत हैं। यह सब बातें तुम्हारे में भी नम्बरवार समझेंगे। पढ़ाई में भी नम्बरवार तो होते हैं ना। एक न मिले दूसरे से। यह राजधानी स्थापन हो रही है। यह बना बनाया ड्रामा है। इनको विस्तार से समझना है। बहुत ढेर प्वाइंट्स हैं। बैरिस्टरी पढ़ते हैं फिर उनमें भी नम्बरवार होते हैं। कोई बैरिस्टर तो 2-3 लाख कमाते हैं। कोई देखो कपड़े भी फटे हुए पहनेंगे। इसमें भी ऐसे हैं।

तो बच्चों को समझाया गया है कि यह इन्टरनेशनल रोला है। अभी तुम समझाते हो कि सब बेफिकर रहो। लड़ाई तो जरूर लगनी ही है। तुम ढिंढोरा पीटते हो कि नई दैवी राजधानी फिर से स्थापन हो रही है। अनेक धर्मो का विनाश होगा। कितना क्लीयर है। प्रजापिता ब्रह्मा से यह प्रजा रची जाती है। कहते हैं यह है मेरी मुख वंशावली। तुम मुख वंशावली ब्राह्मण हो। वह कुख वंशावली ब्राह्मण हैं। वह हैं पुजारी, तुम अभी पूज्य बन रहे हो। तुम जानते हो हम सो देवता पूज्य बन रहे हैं। तुम्हारे ऊपर अभी लाइट का ताज नहीं है। तुम्हारी आत्मा जब पवित्र बनेंगी तब यह शरीर छोड़ देगी। इस शरीर पर तुमको लाइट का ताज नहीं दे सकते, शोभेगा नहीं। इस समय तुम हो गायन लायक। इस समय कोई की भी आत्मा पवित्र नहीं है, इसलिए किसके ऊपर भी इस समय लाइट नहीं होनी चाहिए। लाइट सतयुग में होती है। दो कला कम वाले को भी यह लाइट नहीं देनी चाहिए। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) अपनी स्थिति ऐसी अचल और निर्भय बनानी है जो अन्तिम विनाश की सीन को देख सकें। मेहनत करनी है देही-अभिमानी बनने की।

2) नई राजधानी में ऊंच पद पाने के लिए पढ़ाई पर पूरा-पूरा ध्यान देना है। पास होकर विजय माला का दाना बनना है।

वरदान: स्थूल देश और शरीर की स्मृति से परे सूक्ष्म देश के वेशधारी भव! 

जैसे आजकल की दुनिया में जैसा कर्तव्य वैसा वेश धारण कर लेते हैं, ऐसे आप भी जिस समय जैसा कर्म करना चाहते हो वैसा वेश धारण कर लो। अभी-अभी साकारी और अभी-अभी आकारी। ऐसे बहुरूपी बन जाओ तो सर्व स्वरूपों के सुखों का अनुभव कर सकेंगे। यह अपना ही स्वरूप है। दूसरे के वस्त्र फिट हो या न हों लेकिन अपने वस्त्र सहज ही धारण कर सकते हो इसलिए इस वरदान को प्रैक्टिकल अभ्यास में लाओ तो अव्यक्त मिलन के विचित्र अनुभव कर सकेंगे।

स्लोगन: सबका आदर करने वाले ही आदर्श बन सकते हैं। सम्मान दो तब सम्मान मिलेगा।

Essence of Murli 08-11-2015

08/11/15 Om Shanti Avyakt BapDada Madhuban 07/02/80

“The unique royal court”

BapDada is seeing the balance of being rup (the embodiment of remembrance) and basant (the one who showers knowledge) in the forms of all the children. To be basant and to be stable in the form of rup - is there equality in the two forms? Just as you practise a lot being basant, that is, coming into sound, similarly, do you practise going beyond sound? Are you able to stabilise yourself in the soul conscious form, beyond the awareness of the activity of all your physical senses? Are the actions pulling you or is the karmateet stage pulling you? Just as you have the easy practice of the particular actions of seeing, hearing and speaking, similarly, are you able to have the karmateet stage, that is, with the power of merging all actions are you able to become one who is beyond actions, that is, karmateet? One is the stage of being dependent on actions and the other is the karmateet stage, that is, being one who has a right to self-sovereignty, who has conquered all physical senses at the confluence age. Baba is asking all the rulers who have a right to sovereignty whether the activities of the kingdom are functioning well. Do each of you with a right to sovereignty hold your royal court every day? The royal workers give the result of their duties in the royal court. Is each worker under the control of you, who have a right to sovereignty? Are any workers causing any type of complication in looking after the valuable things they have been entrusted with? Do they ever deceive you sovereigns? Instead of working under you, they do not begin to make you work, do they? Is it the rule of each of you with a right to sovereignty or is it the rule of the people? Do you check yourself in this way, or is there only this consciousness when the enemy comes? Do you hold your court every day or only sometimes? What is the state of your royal workers? Is the activity of the kingdom running well? Do you pay that much attention? One who is a king today will become a king for birth after birth. Are your maids and servants carrying out their duties well? The greatest servant of all is matter. Is matter, the servant, working well? Is it working according to the orders of those who are the conquerors of matter? Are those who are conquerors of matter working under the orders of matter? Are the eight main co- operative powers in your royal court co-operating with you in your task? The beauty of your royal activity are these eight powers, that is, these eight jewels, the eight co-operative ones. Are all eight fine? Check your result. Do you know how to run the activity of the kingdom? If those with a right to sovereignty are asleep in the sleep of carelessness, in the intoxication of limited attainment or engrossed in the dance of waste thoughts, the co-operative powers will not then co-operate at a time of need. So, what is the result? Nowadays, BapDada checks the result of every child in various ways. Do you also check your own result? First of all, the power of thought (mind), the power to decide (intellect) and the power of sanskars – are these three powers in order? Then, are the eight powers in order? These three powers are the chief ministers. So, are your group of ministers working well together or do they create upheaval? Your ministers do not change allegiance, do they? They do not sometimes become slaves of Maya, do they?

If, even now you still do not have controlling power, what will then happen in the final result? You will have to go to the land of Dharamraj (the Supreme Judge) and pay a fine. This punishment is the fine. Become refined and you will not have to pay a fine. Those whose royal court is fine from now will not have to go to the court of Dharamraj. Dharamraj will welcome them. Do you want to be welcomed or do you want to keep taking an oath? “I will not do this anymore. I will not do this anymore.” You will have to say this again and again. Have you made your final decision or is the store of files full? Is your account clear? Or, are there still files on the table of your forehead, that say, “This is not yet done. This is not yet done.” If, even now, you do not settle your old accounts, but continue to increase them, what will the result be? The longer the old accounts are allowed to continue, the more you will have to cry out. This crying out will be very painful. Every second will feel like a year. So, you can, even now, surrender everything with the Shiv mantra. The accounts of some have not yet been burnt. Even now, their old accounts continue. You have heard how even now, the three powers are being dishonest with all the Father’s treasures. The Father has given you treasures for the benefit of the self and of the world, but to use them for something wasteful or harmful is to be dishonest with something entrusted to you. The dictates of others and the dictates of people get mixed with shrimat. You are very clever at mixing everything and giving the appearance of following shrimat. You take words from the murli, but the difference is like that between “Shiva” (God) and “shav” (a corpse). Instead of Shiv Baba, you get stuck in “shav”. Your language is very royal. In order to save yourselves, you keep reassuring yourselves by saying, “Who has done this?”, “Who will see this?” You think that you are deceiving others, but, you are in fact accumulating sorrow for yourselves one hundred-fold for one; so now stop being dishonest and mixing everything. Imbibe spirituality and mercy. Have mercy for yourself and for everyone else. Look at yourself, look at the Father; do not look at others. Become Arjuna. Those who take the initiative are Arjuna. Always remember this slogan: I mustn’t teach through words. I have to teach by demonstrating it. I have to teach by performing elevated actions. I mustn’t teach anything wrong. I will change myself and demonstrate it to everyone. While hearing or seeing wasteful things, I will be a holy swan and let go of the wasteful and imbibe the powerful. I will always be in a sparkling dress, a fully decorated bride - just the Father and I, and no one else. Constantly swing in the swings. Swing in the Father’s lap or swing in the swing of all attainments. Don’t let even your nails, in the form of thoughts, go into the mud. Do you understand what you have to do this year? Otherwise, you will still be wiping the mud away while the Bridegroom will have arrived. He will have reached His destination and you will be left behind, wiping the mud away. You will then end up in the list of those in the procession. Do not wait for the time. Always be ever-ready to offer yourself. Do you understand what you have to do now? In last year’s result, the accounts of many were not cleared. Even now, old stains still remain. They rub them out and then make more stains. Some have a small stain at first, but, they have made it bigger by hiding it. Some hide it and some try to be clever and make themselves move along according to that, and so the stain gets deeper. When a stain is very deep, then whatever the stain is on - whether it is paper or fabric - tears. Similarly, here, too, those who have deep stains will have to tear their hearts and cry: I did this! I did this! They will have to tear their hearts in this way and cry. To watch that scene for even a second is even more painful that the scenes of destruction. Therefore, be honest. Even now, BapDada feels mercy, therefore, hold your royal court every day. Have a court. By checking, there will be change. Achcha.

To those who always have a right to sovereignty and who bring about world transformation through self- transformation, to those who always have an attitude of spirituality and mercy, to those who constantly create a happy and peaceful atmosphere in the world, to those who are light-and-might-houses for wandering souls, to those who have such a determined thought, to those who stay away from the attractions of the old world, to such elevated souls, BapDada’s love, remembrance and namaste. 

BapDada meeting sevadhari brothers and sisters: 

To be a server means to be equal to the Father. The Father too comes here as the Server. To be a server means to become equal to the Father. So, consider that your name has been drawn in a lottery within the drama. To be given a chance to do service means your name has been drawn in a lottery. Constantly continue to take any chance to do service. Everyone’s result is very good. Congratulations. Achcha. 

Personal meeting with groups: 

1) With what vision does BapDada always look at every child? BapDada’s vision is drawn to the speciality of each child, and there cannot be anyone who does not have a speciality. It is because you have a speciality that you have become a special soul and have come into the Brahmin family. When you come into contact with others, let your vision too fall on his or her speciality. Through their speciality you can get them to carry out a task and take benefit from that. Just as the Father creates hope in those who are hopeless, similarly, whoever they may be, however they may be, get them to do something - this is the speciality of the Brahmins of the confluence age. Just as a jeweller’s vision is always on the diamonds, so you too are jewellers. Let your vision not fall on the stone, but look at the diamond. The confluence age is the diamond age. The part is a hero part, and the age is the diamond (hira) age, so see the diamond. Then what will your stage then become? You will continue to spread the rays of your good wishes everywhere. At present, special attention is needed for this. Such effort-makers are said to be intense effort-makers. Such effort-makers do not have to make effort; everything becomes easy for them. For easy yogis, no matter how big a situation may be, it becomes as easy as though nothing has happened – “from a crucifix to a thorn”. So, are you such easy yogis? When as a child you begin to learn to walk, it first feels like effort, and so anything that takes effort is a child’s thing. All effort has now finished and everything is easy. When you experience something to be difficult, put Baba in that place. It is when you carry the burden yourself that you feel it to be effort. Hand it over to the Father and He will finish the burden. When you throw rubbish into the ocean, it does not keep it inside, but throws it onto the shores. Similarly, the Father too finishes the burden. When you forget the Guide, you then find the path to be difficult and time is wasted in that effort. Now, serve with your mind. Have pure thoughts and increase the power of your mind. Those who labour make effort, whereas you are those who have a right.

2) The speciality of Brahmin life is experience. Along with knowledge experience each virtue. If you lack the experience of even one virtue or power, then, at some time or another, some obstacle will affect you. Now begin the course of experience. Use the treasure of every virtue and power. Become an embodiment of whatever virtue you want at any particular moment. The virtue of you souls is love. Do not just have love, but be an embodiment of love. Let any soul you look at experience spiritual love. If you yourself or others do not experience this, it means you are not using what you have received. Nowadays, people keep their things locked away in lockers and don’t experience the happiness of using them. Similarly, do not keep your treasures in the locker of the intellect, but use them. You will then discover how elevated your Brahmin life is. You will then continue to sing the song, “Wah re mai!” (The wonder of myself). There is a difference between the words of those who experience it and those who simply have knowledge of it. Those who simply have knowledge of it are not able to give anyone an experience of it. So, check to what extent you have become an embodiment of experience, what power you have attained and to what percentage, and whether you are able to use that power at the right time or not. Not that, when an enemy comes in front of you, your sword doesn’t work or that you remember your shield when you should be remembering your sword, or that you remember your sword when you have to remember your shield. Only when you are able to use whatever you need at the right time will you be able to be victorious. Achcha. 

Blessing: May you constantly be soul conscious and forget everything by experiencing love and the stage of being merged in love. 

In your actions, words, connections and relationships, let there be love and the awareness and stage of being merged in love, and you will then forget everything else and become soul conscious. It is only love that brings you into a close relationship with the Father and makes you a complete renunciate. With this speciality of love and by remaining in the stage of being merged in love, you can awaken the fortune or luck of all souls. This love is the key to the lock of luck. It is the master key. With this key you can make any unfortunate soul fortunate.

Slogan: Fix the moment for your own transformation and world transformation will then automatically take place.

08-11-15 प्रात:मुरली ओम् शान्ति 
“अव्यक्त-बापदादा” रिवाइज:07-02-80 मधुबन

“विचित्र राज्य दरबार”

बापदादा सभी बच्चों के रूप-बसन्त, दोनों के बैलेन्स देख रहे हैं। बसन्त बनना और रूप में स्थित होना। दोनों में समानता है? जैसे बसन्त अर्थात् वाणी में आने की बहुत प्रैक्टिस है, ऐसे वाणी से परे जाने का अभ्यास है? सर्व कर्मेन्द्रियों के कर्म की स्मृति से परे एक ही आत्मिक स्वरूप में स्थित हो सकते हो? कर्म खींचता है या कर्मातीत अवस्था खींचती है! देखना, सुनना, सुनाना - ये विशेष कर्म जैसे सहज अभ्यास में आ गये हैं, ऐसे ही कर्मातीत बनने की स्टेज अर्थात् कर्म को समेटने की शक्ति से अकर्मी अर्थात् कर्मातीत बन सकते हो? एक है कर्म-अधीन स्टेज, दूसरी है कर्मातीत अर्थात् संगमयुगी कमेन्द्रियों-जीत स्वराज्यधारी। राज्य अधिकारी राजाओं से पूछते हैं कि हरेक की राज्य कारोबार ठीक चल रही है? हरेक राज्य अधिकारी रोज़ अपनी राज दरबार लगाते हैं? राज्य दरबार में राज्य कारोबारी अपने कार्य की रिजल्ट देते हैं। हरेक करोबारी आप राज्य अधिकारी के ऑर्डर में है? कोई भी कारोबारी ख्यानत व मिलावट (अमानत में ख्यानत) व किसी भी प्रकार की खिटखिट तो नहीं करते हैं? कभी आप राज्य अधिकारी को धोखा तो नहीं देते हैं? चलने के बजाए चलाने तो नहीं लग जाते हैं? आप राज्य अधिकारियों का राज्य है या प्रजा का राज्य है? ऐसी चेकिंग करते हो या जब दुश्मन आता है तब होश आता है? रोज़ अपनी दरबार लगाते हो या कभी-कभी दरबार लगाते हो? क्या हाल है आपके राज्य दरबारियों का? राज्य कारोबार ठीक है? इतना अटेन्शन देते हो? अभी के राजा ही जन्म-जन्मान्तर के राजा बनेंगे। आपकी दासी ठीक कार्य कर रही है? सबसे बड़े-से-बड़ी दासी है - प्रकृति। प्रकृति रूपी दासी ठीक कार्य कर रही है? प्रकृतिजीत के ऑर्डर प्रमाण अपना कार्य कर रही है? प्रकृतिजीत - प्रकृति के ऑर्डर में तो नहीं आते? आपके राज्य- दरबार की मुख्य 8 सहयोगी शक्तियाँ आपके कार्य में सहयोग दे रही हैं? राज्य कारोबार की शोभा हैं - ये अष्ट शक्तियाँ अर्थात् अष्ट रत्न, अष्ट सहयोगी। तो आठों ही ठीक हैं? अपनी रिजल्ट चेक करो। राज्य कारोबार चलाना आता है? अगर राज्य अधिकारी अलबेलेपन की नींद में व अल्पकाल की प्राप्ति के नशे में व व्यर्थ संकल्पों के नाच में मस्त होंगे तो सहयोगी शक्तियाँ भी समय पर सहयोग नहीं देंगी। तो रिजल्ट क्या समझें? आजकल बापदादा हरेक बच्चे की भिन्न-भिन्न रूप से रिजल्ट चेक कर रहे हैं। आप अपनी रिजल्ट भी चेक करते हों? पहले तो संकल्प शक्ति, निर्णय शक्ति और संस्कार शक्ति - तीनों ही शक्तियाँ ऑर्डर में हैं? फिर 8 शक्तियाँ ऑर्डर में है? यह तीन शक्तियाँ है महामन्त्री। तो मन्त्री- मण्डल ठीक है या हिलाता है? आपके मन्त्री भी दलबदलू तो नहीं है? कभी माया के मुरीद तो नहीं बन जाते हैं?

अगर अभी तक भी कन्ट्रोलिंग पावर नहीं होगी तो फाइनल रिजल्ट में क्या होगा? फाइन भरने के लिए धर्मराजपुरी में जाना पड़ेगा। यह सजायें फाइन हैं। रिफाइन बन जाओ तो फाइन नहीं भरना पड़ेगा। जिसकी अभी से राज्य दरबार ठीक है वह धर्मराज की दरबार में नहीं जायेंगे। धर्मराज भी उनका स्वागत करेगा। स्वागत करानी है या बार-बार सौगन्ध खानी है। अभी नहीं करेंगे, अभी नहीं करेंगे - यह बार-बार कहना पड़ेगा। अपना फाइनल फैंसला कर लिया है कि अभी फाइलों के भण्डार भरे हुए हैं? खाता क्लियर हो गया है या मस्तक के टेबल पर यह नहीं किया है, यह नहीं किया है - यह फाइलें रही हुई हैं? अगर अब तक भी पुराने खाते का हिसाब-किताब चुक्ता न कर बढ़ाते चलेंगे तो रिजल्ट क्या होगी! जितना पुराना खाता चलाते रहेंगे उतना ही चिल्लाना पड़ेगा। यह चिल्लाना बड़ा दर्दनाक है। एक-एक सेकण्ड एक वर्ष के समान अनुभव होगा इसलिए अभी भी “शिव-मन्त्र” द्वारा समर्पित कर दो। अभी कईयों के खाते भस्म नहीं हुए हैं। अभी पुराने खाते ही चला रहे हैं। सुनाया ना - कईयों की तीन शक्तियाँ अभी भी बाप के सर्व खजाने में ख्यानत कर रही हैं। बाप ने खजाने दिये हैं, स्व-कल्याण और विश्व-कल्याण के प्रति। लेकिन व्यर्थ तरफ लगाना, अकल्याण के कार्य में लगाना - यह अमानत में ख्यानत हो रही है। श्रीमत के साथ परमत और जनमत की मिलावट हो रही है। मिलावट करने में होशियार भी बहुत हैं। रूप ऐसा ही रखते हैं जैसे कि श्रीमत है। शब्द मुरली के ही लेंगे लेकिन अन्तर इतना होगा जैसे शिव और शव। शिवबाबा के बजाए शव में अटकेंगे। उनकी भाषा बड़ी रॉयल रूप की होती हैं। सदैव अपने को बचाने के लिए, किसने किया है, कौन देखता है...., ऐसे दिलासे से स्वयं को चलाते रहते हैं। समझते हैं दूसरों को धोखा देते हैं लेकिन स्वयं का दु:ख जमा कर रहे हैं। एक का सौगुणा होकर जमा होता रहता है इसलिए ख्यानत और मिलावट को समाप्त करो। रूहानियत और रहम को धारण करो। अपने ऊपर और सर्व के ऊपर रहमदिल बनो। स्व को देखो, बाप को देखो औरों को नहीं देखो। ‘हे अर्जुन’ बनो। जो ओटे सो अर्जुन। सदा यह स्लोगन याद रखो – “कहकर नहीं सिखाना है, करके सिखाना है। श्रेष्ठ कर्म करके सिखाना है”। उल्टा नहीं सिखाना है। मैं बदल करके सबको बदल के दिखाऊंगा। व्यर्थ बातें सुनते हुए, देखते हुए होली हंस बन, व्यर्थ छोड़ समर्थ धारण करो। सदा चमकीली ड्रेस में सजे- सजाये सदा सुहागिन। बाप और मैं, तीसरा न कोई। सदा झूले में झूलो। बाप की गोदी के झूलों या सर्व प्राप्तियों के झूले में झूलो। संकल्प रूपी नाखून भी मिट्टी में न जाए। समझा, इस वर्ष क्या करना है? नहीं तो मिट्टी पोंछते रहेंगे, साजन पहुंच जायेगा। वह मंजिल पर पहुंच जायेगा और आप पोंछते हुए रह जायेंगे। बरातियों की लिस्ट में आ जायेंगे। समय का इन्तजार नहीं करना। सदा स्वयं को ऑफर करो कि मैं एवररेडी हूँ। समझा, अब क्या करना है!

बीते हुए वर्ष की रिजल्ट में अभी कईयों के खाते क्लियर नहीं हैं। अब तक पुराने-पुराने दाग भी कईयों के रहे हुए हैं। रबड़ भी लगाते हैं, फिर दाग लगा देते हैं। कईयों का तो पहले छोटा दाग है लेकिन छिपाते-छिपाते बड़ा कर दिया है। कई छिपाते हैं और कई चालाकी से अपने को चलाते हैं इसलिए गहरा दाग होता जाता है। जैसे बहुत गहरा दाग होता है तो जिस चीज़ पर दाग होता है वही फट जाती है, चाहे कागज़ पर हो, चाहे कपड़े पर हो। वैसे यहाँ भी गहरे दाग वाले को दिल फाड़ कर रोना पड़ेगा। यह मैंने किया - यह मैंने किया। ऐसे दिल फाड़ करके रोना पड़ेगा। अगर एक सेकण्ड भी वह दृश्य देखो तो विनाशकाल से भी दर्दनाक है इसलिए सच्चे बनो। बापदादा को अभी भी रहम आता है इसलिए रोज़ अपनी राज-दरबार लगाओ, कचहरी करो। चेक करने से चेन्ज हो जायेंगे। अच्छा।

ऐसे स्व परिवर्तन द्वारा विश्व परिवर्तन करने वाले सदा राज्य अधिकारी, सदा रूहानियत और रहम की वृत्ति वाले, विश्व में सदा सुखी, शान्त वायुमण्डल बनाने वाले, भटकती हुई आत्माओं के लिए लाइट हाउस और माइट हाउस - ऐसे दृढ़ संकल्प करने वाले, पुरानी दुनिया की आकर्षण से दूर रहने वाले, ऐसी श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का याद प्यार और नमस्ते।

सेवाधारी भाई-बहनों से:- सेवाधारी अर्थात् बाप समान। बाप भी सेवाधारी बन करके आते हैं। सेवाधारी बनना अर्थात् बाप समान बनना। तो ये भी समझो ड्रामा में लॉटरी में नाम निकलता है। सेवा का चान्स मिलना अर्थात् लॉटरी का नाम निकलना। सदा सेवा का चान्स लेते रहना। सभी की रिजल्ट बहुत अच्छी है - मुबारक हो। अच्छा। 

पर्सनल मुलाकात पार्टियों से:-

बाप-दादा हर बच्चे को सदैव किस नज़र से देखते हैं? बाप-दादा की नज़र हरेक बच्चे की विशेषता पर जाती है। और ऐसा कोई भी नहीं हो सकता जिसमें कोई विशेषता न हो। विशेषता है तब विशेष आत्मा बनकर ब्राह्मण परिवार में आये हैं। आप भी जब किसी के सम्पर्क में आते हो तो विशेषता पर नज़र जानी चाहिए। विशेषता द्वारा उनसे वह कार्य करा सकते हो और लाभ ले सकते हो। जैसे बाप होपलेस को होप वाला बना देते। ऐसे कोई भी हो, कैसा भी हो उनसे कार्य निकालना है, यह है संगमयुगी ब्राह्मणों की विशेषता। जैसे जवाहरी की नज़र सदा हीरे पर रहती, आप भी ज्वैलर्स हो, अपनी नज़र पत्थर की तरफ न जाए, हीरे को देखो। संगमयुग है भी हीरे तुल्य युग। पार्ट भी हीरो, युग भी हीरे तुल्य, तो हीरा ही देखो। फिर स्टेज कौन-सी होगी? अपनी शुभ भावना की किरणें सब तरफ फैलाते रहेंगे। वर्तमान समय इसी बात का विशेष अटेन्शन चाहिए। ऐसे पुरुषार्थी को ही तीव्र पुरुषार्थी कहा जाता है। ऐसे पुरुषार्थी को मेहनत नहीं करनी पड़ती, सब कुछ सहज हो जाता है। सहजयोगी के आगे कितनी भी बड़ी बात ऐसे सहज हो जाती है जैसे कुछ हुआ ही नहीं, सूली से काँटा। तो ऐसे सहजयोगी हो ना? बचपन में जब चलना सीखते हैं तब मेहनत लगती, तो मेहनत का काम भी बचपन की बातें हैं, अब मेहनत समाप्त सब में सहज। जहाँ कोई भी मुश्किल अनुभव होता है वहाँ उसी स्थान पर बाबा को रख दो। बोझ अपने ऊपर रखते हो तो मेहनत लगती। बाप पर रख दो तो बाप बोझ को खत्म कर देंगे। जैसे सागर में किचड़ा डालते हैं तो वह अपने में नहीं रखता, किनारे कर देता, ऐसे बाप भी बोझ को खत्म कर देते। जब पण्डे को भूल जाते हो तब मेहनत का रास्ता अनुभव होता। मेहनत में टाइम वेस्ट होता। अब मन्सा सेवा करो, शुभाचिंतन करो, मनन शक्ति को बढ़ाओ। मेहनत मजदूर करते आप तो अधिकारी हैं।

2) ब्राहमण जीवन की विशेषता है अनुभव। नॉलेज के साथ-साथ हर गुण की अनुभूति होनी चाहिए। अगर एक भी गुण वा शक्ति की अनुभूति नहीं तो कभी-न-कभी विघ्न के वश हो जायेंगे। अभी अनुभूति का कोर्स शुरू करो। हर गुण वा शक्ति रूपी खजाने को यूज़ करो। जिस समय जिस गुण की आवश्यकता है उस समय उसका स्वरूप बन जाओ। जैसे आत्मा का गुण है प्रेम स्वरूप, सिर्फ प्रेम नहीं लेकिन प्रेम स्वरूप में आना चाहिए। जिस आत्मा को देखो उसे रूहानी प्रेम की अनुभूति होनी चाहिए। अगर स्वयं को वा दूसरों को अनुभव नहीं होता तो जो मिला है उसे यूज़ नहीं किया है। जैसे आजकल भी खजाना लाकर्स में पड़ा हो तो खुशी नहीं होती। वैसे नॉलेज की रीति से बुद्धि के लाकर में खजाने को रख न दो, यूज़ करो। फिर देखो यह ब्राहमण जीवन कितना श्रेष्ठ लगता है। फिर वाह रे मैं का गीत गाते रहेंगे। अनुभवी के बोल और नॉलेज वाले के बोल में अन्तर होता है। सिर्फ नॉलेज वाला अनुभव नहीं करा सकता। तो चेक करो कि कहाँ तक मैं अनुभवी मूर्त बना हूँ? कौन-सी शक्ति किस परसेन्टेज में प्राप्त की है? और समय पर कार्य में ला सकते हैं या नहीं? ऐसा न हो दुश्मन आवे और तलवार चले नहीं अथवा ढाल के समय तलवार और तलवार के समय ढाल याद आ जाए। जिस समय जिस चीज़ की आवश्यकता है वही यूज़ करो तब विजयी हो सकेंगे। अच्छा।

वरदान: लव और लवलीन स्थिति के अनुभव द्वारा सब कुछ भूलने वाले सदा देही अभिमानी भव! 

कर्म में, वाणी में, सम्पर्क में व सम्बन्ध में लव और स्मृति व स्थिति में लवलीन रहो तो सब कुछ भूलकर देही-अभिमानी बन जायेंगे। लव ही बाप के समीप सम्बन्ध में लाता है, सर्वस्व त्यागी बनाता है। इस लव की विशेषता से वा लवलीन स्थिति में रहने से ही सर्व आत्माओं के भाग्य व लक्क को जगा सकते हो। यह लव ही लक्क के लॉक की चाबी है। यह मास्टर-की है। इससे कैसी भी दुर्भाग्यशाली आत्मा को भाग्यशाली बना सकते हो।

स्लोगन: स्वयं के परिवर्तन की घड़ी निश्चित करो तो विश्व परिवर्तन स्वत:हो जायेगा।

Saturday, November 7, 2015

Essence of Murli 07-11-2015

07/11/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, you are now being made into true deities by the true Father. Therefore, there will be no need to have the Company of the Truth (satsang – a religious gathering) in the golden age, the age of truth. 

Question: Why is it that deities cannot perform any sinful actions in the golden age?

Answer: Because they were blessed by the true Father. Sinful actions begin to be performed when you are cursed by Ravan. In the golden and silver ages you are in salvation. There is no mention of degradation at that time; there are no vices and therefore, no sinful actions are performed. Everyone in the copper and iron ages is in degradation and they therefore continue to perform sinful actions. This is something that has to be understood.

Om Shanti. The Father sits here and explains to the sweetest, spiritual children. He is the Supreme Father, the Supreme Teacher and also the Supreme Satguru. When people are told this praise of the Father, it is automatically proved that Krishna cannot be a father of anyone; he is a small child, a prince of the golden age. He cannot even be a teacher. He, himself, sits and studies with a teacher. There are no gurus there because everyone is in salvation. For half the cycle there is salvation and for half the cycle there is degradation. Because there is salvation there, there is no need for knowledge there. There is no mention of this knowledge there because it is through knowledge here that you receive salvation for 21 births. Then, from the copper age until the end of the iron age, there is degradation. So, how could Krishna exist in the copper age? No one is aware of this. There is a deep significance in every aspect and it is most essential to explain everything. That One is the Supreme Father and the Supreme Teacher. In English, you would only call Him the Supreme. Some English words are very good, for instance, the word “drama”. A play is not called a drama (film) because there can be a change of actors in a play. They say that this world cycle continues to turn, but they don’t know how it turns. No one knows whether it repeats identically or whether there is any change in it. They say: Whatever is predestined is taking place. This is definitely a play which continues to repeat. It is only human beings who have to continue to go around this cycle. OK, what is the duration of this cycle? How does it repeat? How long does it take to rotate? No one knows this. There are the clans of Buddhists and those of Islam who have parts to play in the drama. There is no dynasty of you Brahmins; this is the Brahmin clan. It is called the most elevated Brahmin clan. There is also the deity clan. It is very easy to explain this. Angels reside in the subtle region. There are no flesh and bones there. Deities have flesh and bones. Brahma becomes Vishnu and Vishnu becomes Brahma. Why have they portrayed Brahma emerging from the navel of Vishnu? These things do not exist in the subtle region, nor are there any ornaments there. This is why Brahma is portrayed as a Brahmin in a white costume. At the end of his many births, Brahma becomes a poor, ordinary human being. At this time he wears homespun cotton. Those poor people don’t understand what a subtle body is. The Father explains to you that there are only angels there who have no flesh or bones. There shouldn’t be any decoration in the subtle region. Because that has been portrayed in the pictures, Baba grants a vision of it and explains the meaning to you, just as He grants visions of Hanuman. There is no such human being as Hanuman. They have created many types of picture on the path of devotion. If you say anything to those who have faith in them, they become upset. They worship goddesses etc. so much and then drown them. All of that is the path of devotion. They are trapped up to their necks in the quicksand of the path of devotion. How can they be removed from that? It becomes difficult to remove them from that. Some become instruments to remove others, but they then become trapped themselves. They themselves become trapped up to their necks in the quicksand, that is, they fall into vice, which is the biggest quicksand. These things do not exist in the golden age. You are now being made into true deities by the true Father. There is no company of the Truth (religious gathering) in the golden age. It is here that you have the company of the Truth. People think that everyone is a form of God; they don’t understand anything at all. The Father sits here and explains: In the iron age all are sinful souls, whereas in the golden age all are pure and charitable souls. There is the difference of day and night. You are now at the confluence age. You know both the iron age and the golden age. The main thing is to go from this side to the other side. They mention the ocean of poison and the ocean of milk, but they don’t understand anything. The Father now sits here and tells you the secrets of action and neutral action. People perform actions, but some are neutral and others are sinful. In Ravan's kingdom, all actions are sinful. There are no sinful actions in the golden age because there is the kingdom of Rama there; they had received blessings from the Father. Ravan curses you. This is a play about happiness and sorrow. Everyone remembers the Father at the time of sorrow. No one remembers Him at the time of happiness. There are no vices there. You children have been told that the sapling is being planted. It is now that the system of planting saplings starts. The Father started the system of planting a sapling. When it was the British Government here, it was never printed in the papers that saplings were planted. The Father sits here and plants the sapling of the deity religion. He doesn’t plant any other sapling. There are many other religions but the deity religion has disappeared. Because they became corrupt in religion and action, they changed its name. Those who belong to the deity religion will go into the same deity religion again. Everyone has to go into his own religion. Those who belong to the Christian religion cannot come out of that and go into the deity religion; they cannot be liberated from it. Yes, some souls of the deity religion who were converted into the Christian religion will return to their deity religion. They will really like this knowledge and yoga a great deal and this will prove that they belong to your religion. You need to have a broad intellect to understand and explain these things. You have to imbibe all of these things and when you relate them to others not just read them from a book, like someone relating the Gita to other people who sit and listen to him. Some are able to recite the verses of the Gita by heart. They all sit and extract their own meanings from it. All the verses are in Sanskrit. It is remembered that if you were to make an ocean into ink and a whole forest into pens, there would still be no end to this knowledge. The Gita is very small; it only has 18 chapters. Some people even wear a tiny Gita around their necks. It has very minute writing. Some have the habit of wearing it around their necks. They make such a tiny locket. In fact, it is a matter of just a second. Once you belong to the Father it is as though you become a have faith in just one day and instantly write a letter to Baba. Since you have become a child, you are a master of the world. This hardly sits in anyone’s intellect. You become the masters of the world, do you not? There are no other lands there. All name and trace of them disappear. No one there is even aware that those lands existed. If they did exist, their history and geography would also definitely exist. Those lands don’t exist there. This is why it is said that you become the masters of the world. Baba has explained: I am your Father and I am the Ocean of Knowledge. This knowledge is so elevated that we become the masters of the world through it. Our Father is the Supreme. He is the true Father and the true Teacher. He tells us the truth. The teachings He gives us are unlimited. He is the unlimited Guru who grants salvation to everyone. When you sing praise of the One, that praise cannot belong to anyone else. That can only be when He makes you equal to Himself. Therefore, you also become purifiers. People write: Satnaam! (In the name of Truth). You mothers are purifier Ganges. You can be called Shiv Shaktis or those who belong to the clan of Shiva, the Brahma Kumars and Kumaris who belong to the clan of Shiva. Everyone belongs to the clan of Shiva, but creation is created through Brahma and so you Brahma Kumars and Kumaris only exist at the confluence age. He adopts you through Brahma. First of all, there are you Brahma Kumars and Kumaris. If anyone objects, you can tell him: This is Prajapita Brahma, the one whom the Father enters. The Father says: I enter this one at the end of the last of his many births. They portray Brahma emerging from the navel of Vishnu. Achcha, so whose navel did Vishnu emerge from? You can paint an arrow indicating vice-versa: Vishnu becomes Brahma and Brahma becomes Vishnu. This one emerges from that one and that one emerges from this one. This one takes one second, whereas that one takes 5000 years. These are wonderful things which you explain while sitting with them. The Father says: Lakshmi and Narayan take 84 births, and then I enter this one at the end of the last of his many births and make him this. This is something that has to be understood. Sit down and we will tell you why we call him Brahma. These pictures have been made to show to the whole world. We can explain these to you. However, only those who are destined to understand this will understand it. For those who don’t understand it, we say that they don’t belong to our clan. Although they may go there, they will be part of the subjects. To us, all are poor, helpless ones. Those who are poor in terms of wealth are said to be poor, helpless ones. You children have to imbibe very many points. Lectures have to be given on topics. Is this topic any less? They show four arms for Prajapita Brahma and Saraswati. Therefore, two arms are for the daughter; they are not a couple. In fact, the couple is Vishnu. Brahma's daughter is Saraswati. Shankar too doesn't have a partner. This is why they speak of Shiv and Shankar. What does Shankar do? Destruction takes place through atomic bombs. How could the Father bring death to His children? That would be a sin. The Father, in fact, takes all of you to the land of peace, without any effort. Everyone settles his karmic accounts and returns home, because this is the time for settlement. The Father comes to do service. He grants salvation to everyone. You too will first receive liberation and then salvation. These matters have to be understood. No one else knows these matters at all. You can see that some eat your head a great deal and yet they still don't understand anything at all! Those who are to understand something good will come and understand. Tell them: If you want to understand each thing, you have to give some time. Here, you are ordered to give the Father's introduction. This is a forest of thorns; everyone causes sorrow for one another. It is called the land of sorrow. The golden age is the land of happiness. We will explain to you how the land of sorrow changes into the land of happiness. Lakshmi and Narayan were in the land of happiness. Then, while taking 84 births, they entered the land of sorrow. How was this one named Brahma? The Father says: I enter this one and inspire him to have unlimited renunciation. The Father inspires renunciation instantly because He has to inspire him to do service; He inspires everything. Many emerged after him, and they were also given names. Those people then show the example of kittens. All of those are tall stories. How can there be kittens? A cat would not sit and listen to knowledge. Baba shows you many ways to serve. If someone doesn’t understand anything, tell him: Until you understand Alpha, you won’t be able to understand anything else. Have faith in this one thing and write it down. Otherwise, you will forget it! Maya will make you forget it. The main thing is the Father’s introduction. Our Father is the Supreme Father and the Supreme Teacher who tells us the secrets of the beginning, the middle and the end of the world that no one else knows. It takes time to explain this. Until they understand the Father, they will continue to ask questions. Unless they have understood Alpha, they won’t be able to understand beta. They will continue to have doubts for nothing and ask: Why do you say it’s like that when it is like this in the scriptures? Therefore, first of all give everyone the Father's introduction. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children. 

Essence for Dharna:

1. Keep the deep philosophy of karma, neutral karma and sinful karma in your intellect and don't perform any sinful actions. Imbibe knowledge and yoga and then give knowledge to others.

2. Do the service of changing ordinary humans into deities by giving the true knowledge of the true Father. Remove everyone from the quicksand of vice.

Blessing: May you receive the blessing of becoming equal and, with your stage of being equal to the Father, bring time close. 

To finish the consciousness of the self means to stabilise in the stage of being equal to the Father and to bring time close. Where there is the consciousness of “mine” for your body or for any other possession, there is a percentage of equality. Percentage means defects and those with defects can never become perfect. In order to become perfect, remain constantly merged in the Father’s love. By being constantly merged in love, you will easily be able to make others the same as yourselves and the Father. BapDada constantly gives the blessing of “May the same apply to you” to the children who are lovely and who remain merged in love.

Slogan: Give regard to the ideas of one another and your own record will become good.

07-11-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - अभी तुम सत्य बाप द्वारा सत्य देवता बन रहे हो, इसलिए सतयुग में सतसंग करने की जरूरत नहीं” 

प्रश्न: सतयुग में देवताओं से कोई भी विकर्म नहीं हो सकता है, क्यों?

उत्तर: क्योंकि उन्हें सत्य बाप का वरदान मिला हुआ है। विकर्म तब होता है जब रावण का श्राप मिलने लगता है। सतयुग-त्रेता में है ही सद्गति, उस समय दुर्गाति का नाम नहीं। विकार ही नहीं जो विकर्म हो। द्वापर- कलियुग में सबकी दुर्गति हो जाती इसलिए विकर्म होते रहते हैं। यह भी समझने की बातें हैं।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति बाप बैठ समझाते हैं - यह सुप्रीम बाप भी है, सुप्रीम टीचर भी है, सुप्रीम सतगुरू भी है। बाप की ऐसी महिमा बताने से ऑटोमेटिकली सिद्ध हो जाता है कि कृष्ण किसी का बाप हो नहीं सकता। वह तो छोटा बच्चा, सतयुग का प्रिन्स है। वह टीचर भी नहीं हो सकता। खुद ही बैठकर टीचर से पढ़ते हैं। गुरू तो वहाँ होता नहीं क्योंकि वहाँ सब सद्गति में हैं। आधाकल्प है सद्गति, आधाकल्प है दुर्गति। तो वहाँ है सद्गति, इसलिए ज्ञान की वहाँ दरकार नहीं रहती। नाम भी नहीं है क्योंकि ज्ञान से 21 जन्मों के लिए सद्गति मिलती है फिर द्वापर से कलियुग अन्त तक है दुर्गति। तो कृष्ण फिर द्वापर में कैसे आ सकता। यह भी किसको ध्यान में नहीं आता है। एक-एक बात में बहुत ही गुह्य राज़ भरा हुआ है, जो समझाना बहुत जरूरी है। वह सुप्रीम बाप, सुप्रीम टीचर है। अंग्रेजी में सुप्रीम ही कहा जाता है। अंग्रेजी अक्षर कुछ अच्छे होते हैं। जैसे ड्रामा अक्षर है। ड्रामा को नाटक नहीं कहेंगे, नाटक में तो अदली-बदली होती है। यह सृष्टि का चक्र फिरता है-ऐसा कहते भी हैं, परन्तु कैसे फिरता है, हूबहू फिरता है या चेंज होती है, यह किसको भी पता नहीं है। कहते भी हैं बनी-बनाई बन रही......जरूर कोई खेल है जो फिर से चक्र खाता रहता है। इस चक्र में मनुष्यों को ही चक्र लगाना पड़ता है। अच्छा, इस चक्र की आयु क्या है? कैसे रिपीट होता है? इसको फिरने में कितना समय लगता है? यह कोई नहीं जानते। इस्लामी-बौद्धी आदि यह सब हैं घराने, जिनका ड्रामा में पार्ट है।

तुम ब्राह्मणों की डिनायस्टी नहीं है, यह है ब्राह्मण कुल। सर्वोत्तम ब्राह्मण कुल कहा जाता है। देवी-देवताओं का भी कुल है। यह तो समझाना बहुत सहज है। सूक्ष्मवतन में फरिश्ते रहते हैं। वहाँ हड्डी-मांस होता नहीं। देवताओं को तो हड्डी-मांस है ना। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा। विष्णु की नाभी कमल से ब्रह्मा क्यों दिखाया है? सूक्ष्मवतन में तो यह बातें होती नहीं। न जवाहरात आदि हो सकते, इसलिए ब्रह्मा को सफेद पोशधारी ब्राह्मण दिखाया है। ब्रह्मा साधारण मनुष्य बहुत जन्मों के अन्त में गरीब हुआ ना। इस समय हैं ही खादी के कपड़े। वह बिचारे समझते नहीं सूक्ष्म शरीर क्या होता है। तुमको बाप समझाते हैं - वहाँ हैं ही फरिश्ते, जिनको हड्डी-मांस होता नहीं। सूक्ष्मवतन में तो यह श्रृंगार आदि होना नहीं चाहिए। परन्तु चित्रों में दिखाया है तो बाबा उसका ही साक्षात्कार कराए फिर अर्थ समझाते हैं। जैसे हनूमान का साक्षात्कार कराते हैं। अब हनूमान जैसा कोई मनुष्य होता नहीं। भक्ति मार्ग में अनेक प्रकार के चित्र बनाये हैं, जिनका विश्वास बैठ गया है उनको ऐसा कुछ बोलो तो बिगड़ पड़ते। देवियों आदि की कितनी पूजा करते हैं फिर डुबो देते हैं। यह सब है भक्ति मार्ग। भक्ति मार्ग के दलदल में गले तक डूबे हुए हैं तो फिर निकाल कैसे सकेंगे। निकालना ही मुश्किल हो जाता है। कोई-कोई तो औरों को निकालने निमित्त बन खुद ही डूब जाते हैं। खुद गले तक दुबन में फंसते अर्थात् काम विकार में गिर पड़ते हैं। यह है सबसे बड़ी दुबन (दलदल)। सतयुग में यह बातें होती नहीं। अभी तुम सत्य बाप द्वारा सत्य देवता बन रहे हो। फिर वहाँ सतसंग होते नहीं। सतसंग यहाँ भक्ति मार्ग में करते रहते हैं, समझते हैं सब ईश्वर के रूप हैं। कुछ भी नहीं समझते। बाप बैठ समझाते हैं-कलियुग में हैं सब पाप आत्मायें, सतयुग में होते हैं पुण्य आत्मायें। रात-दिन का फर्क है। तुम अभी संगम पर हो। कलियुग और सतयुग दोनों को जानते हो। मूल बात है इस पार से उस पार जाने की। क्षीरसागर और विषय सागर का गायन भी है परन्तु अर्थ कुछ नहीं समझते। अभी बाप बैठ कर्म-अकर्म का राज़ समझाते हैं। कर्म तो मनुष्य करते ही हैं फिर कोई कर्म अकर्म होते हैं, कोई विकर्म होते हैं। रावण राज्य में सब कर्म विकर्म हो जाते हैं, सतयुग में विकर्म होता नहीं क्योंकि वहाँ है रामराज्य। बाप से वरदान पाये हुए हैं। रावण देते हैं श्राप। यह सुख और दु:ख का खेल है ना। दु:ख में सब बाप को याद करते हैं। सुख में कोई याद नहीं करते। वहाँ विकार होते नहीं। बच्चों को समझाया है-सैपलिंग लगाते हैं। यह सैपलिग लगाने की रसम भी अभी पड़ी है। बाप ने सैपलिंग लगाना शुरू किया है। आगे जब ब्रिटिश गवर्मेन्ट थी तो कभी अखबार में नहीं पड़ता था कि झाड़ों का सैपलिंग लगाते हैं। अब बाप बैठ देवी-देवता धर्म का सैपलिंग लगाते हैं, और कोई सैपलिंग नहीं लगाते। बहुत धर्म हैं, देवी-देवता धर्म प्राय: लोप है। धर्म भ्रष्ट कर्म भ्रष्ट होने के कारण नाम ही उल्टा- सुल्टा रख दिया है। जो देवता धर्म के हैं उन्हों को फिर उसी देवी-देवता धर्म में आना है। हर एक को अपने धर्म में ही जाना है। क्रिश्चियन धर्म का निकलकर फिर देवी-देवता धर्म में आ नहीं सकेंगे। मुक्ति तो हो न सके। हाँ, कोई देवी- देवता धर्म का कनवर्ट होकर क्रिश्चियन धर्म में चला गया होगा तो वह फिर लौटकर अपने देवी-देवता धर्म में आ जायेगा। उनको यह ज्ञान और योग बहुत अच्छा लगेगा, इससे सिद्ध होता है कि यह अपने धर्म का है। इसमें बड़ी विशालबुद्धि चाहिए समझने और समझाने की। धारणा करनी है, किताब पढ़कर नहीं सुनानी है। जैसे कोई गीता सुनाते हैं, मनुष्य बैठकर सुनते हैं। कोई तो गीता के श्लोक एकदम कण्ठ कर लेते हैं। बाकी तो इनका अर्थ हर एक अपना-अपना बैठ निकालते हैं। श्लोक सारे संस्कृत में हैं। यहाँ तो गायन है कि सागर को स्याही बना दो, सारा जंगल कलम बना दो तो भी ज्ञान का अन्त नहीं होता। गीता तो बहुत छोटी है। 18 अध्याय हैं। इतनी छोटी गीता बनाकर गले में पहनते हैं। बहुत पतले अक्षर होते हैं। गले में पहनने की भी आदत होती है। कितना छोटा लॉकेट बनता है। वास्तव में है तो सेकण्ड की बात। बाप का बना जैसेकि विश्व का मालिक बना। बाबा हम आपका एक दिन का बच्चा हूँ, ऐसे भी लिखने शुरू करेंगे। एक दिन में निश्चय हुआ और फट से पत्र लिखेंगे। बच्चा बना तो विश्व का मालिक हुआ। यह भी कोई की बुद्धि में मुश्किल बैठता है। तुम विश्व का मालिक बनते हो ना। वहाँ और कोई खण्ड नहीं रहता है, नाम-निशान गुम हो जाता है। कोई को मालूम भी नहीं रहता कि यह खण्ड थे। अगर थे तो जरूर उनकी हिस्ट्री-जॉग्राफी चाहिए। वहाँ यह होते ही नहीं इसलिए कहा जाता है तुम विश्व के मालिक बनने वाले हो। बाबा ने समझाया है - मैं तुम्हारा बाप भी हूँ, ज्ञान का सागर हूँ। यह तो बहुत ऊंच ते ऊंच ज्ञान है जिससे हम विश्व के मालिक बनते हैं। हमारा बाप सुप्रीम है, सत्य बाप, सत्य टीचर है, सत्य सुनाते हैं। बेहद की शिक्षा देते हैं। बेहद का गुरू है, सबकी सद्गति करते हैं। एक की महिमा की तो वह महिमा फिर दूसरे की हो नहीं सकती। फिर वह आप समान बनाये तब हो सकते। तो तुम भी पतित-पावन ठहरे। सत नाम लिखते हैं। पतित-पावनी गंगायें यह मातायें हैं। शिव शक्ति कहो शिव वंशी कहो। शिव वंशी ब्रह्माकुमार-कुमारियां। शिव वंशी तो सब हैं। बाकी ब्रह्मा द्वारा रचना रचते हैं तो संगम पर ही ब्रह्माकुमार-कुमारियां होते हैं। ब्रह्मा द्वारा एडाप्ट करते हैं। पहले-पहले होते हैं ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। कोई भी एतराज उठाते हैं तो उसको बोलो यह प्रजापिता है, इनमें प्रवेश करते हैं। बाप कहते हैं बहुत जन्मों के अन्त में मैं प्रवेश करता हूँ। दिखाते हैं विष्णु की नाभी से ब्रह्मा निकला। अच्छा विष्णु फिर किसकी नाभी से निकला? उसमें एरो का निशान दे सकते हो कि दोनों ओत-प्रोत हैं। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा। यह उनसे, वह उनसे पैदा हुआ है। इनको लगता है एक सेकेण्ड, उनको लगता है 5 हज़ार वर्ष। यह वन्डरफुल बातें हैं ना। तुम बैठ समझायेंगे। बाप कहते हैं लक्ष्मी-नारायण 84 जन्म लेते हैं फिर उनके ही बहुत जन्मों के अन्त में मैं प्रवेश कर यह बनाता हूँ। समझने की बात है ना। बैठो तो समझायें कि इनको ब्रह्मा क्यों कहते हैं। सारी दुनिया को दिखाने के लिए यह चित्र बनाये हैं। हम समझा सकते हैं, समझने वाले ही समझेंगे। नहीं समझने वाले के लिए कहेंगे यह हमारे कुल का नहीं है। बिचारा भल वहाँ आयेगा परन्तु प्रजा में। हमारे लिए तो सब बिचारे हैं ना-गरीब को बिचारा कहा जाता है। कितनी प्वाइंट्स बच्चों को धारण करनी हैं। भाषण करना होता है टॉपिक्स पर। यह टॉपिक कोई कम है क्या। प्रजापिता ब्रह्मा और सरस्वती, 4 भुजाएं दिखाते हैं। तो 2 भुजा बेटी की हो जाती हैं। युगल तो है नहीं। युगल तो वास्तव में बस विष्णु ही है। ब्रह्मा की बेटी है सरस्वती। शंकर को भी युगल नहीं है, इस कारण शिव-शंकर कह देते हैं। अब शंकर क्या करते हैं? विनाश तो एटॉमिक बाम्ब्स से होता है। बाप कैसे बैठ बच्चों का मौत करायेंगे, यह तो पाप हो जाए। बाप तो और ही सबको शान्तिधाम वापिस ले जाते हैं, बिगर मेहनत। हिसाब-किताब चुक्तू कर सब घर जाते हैं क्योंकि कयामत का समय है। बाप आते ही हैं सर्विस पर। सबको सद्गति दे देते हैं। तुम भी पहले गति में फिर सद्गति में आयेंगे। यह बातें समझने की हैं। इन बातों को ज़रा भी कोई नहीं जानते। तुम देखते हो कोई तो बहुत माथा खपाते, बिल्कुल समझते नहीं। जो कुछ अच्छा समझने वाले होंगे, वह आकर समझेंगे। बोलो, एक-एक बात पर समझना है तो टाइम दो। यहाँ तो सिर्फ हुक्म है, सबको बाप का परिचय दो। यह है ही कांटों का जंगल क्योंकि एक-दो को दु:ख देते रहते हैं, इसको दु:खधाम कहा जाता है। सतयुग है सुखधाम। दु:खधाम से सुखधाम कैसे बनता है यह तुमको समझायें। लक्ष्मी-नारायण सुखधाम में थे फिर यह 84 जन्म ले दु:खधाम में आते हैं। यह ब्रह्मा का नाम भी कैसे रखा। बाप कहते हैं मैं इसमें प्रवेश कर बेहद का सन्यास कराता हूँ। फट से सन्यास करा देते हैं क्योंकि बाप को सर्विस करानी है, वही कराते हैं। इनके पिछाड़ी बहुत निकले जिसका नाम बैठ रखा। वह लोग फिर बिल्ली के पूंगरे बैठ दिखाते हैं। यह सब हैं दन्त कथायें। बिल्ली के पूंगरे हो कैसे सकते। बिल्ली थोड़ेही बैठ ज्ञान सुनेगी। बाबा युक्तियां बहुत बतलाते रहते हैं। कोई बात किसको समझ में न आये तो उनको बोलो-जब तक अल्फ को नहीं समझा है तो और कुछ समझ नहीं सकेंगे। एक बात निश्चय करो और लिखो, नहीं तो भूल जायेंगे। माया भुला देगी। मुख्य बात है बाप के परिचय की। हमारा बाप सुप्रीम बाप, सुप्रीम टीचर है जो सारे विश्व के आदि-मध्य- अन्त का राज़ समझाते हैं, जिसका कोई को पता नहीं है। इस समझाने में टाइम चाहिए। जब तक बाप को नहीं समझा है तब तक प्रश्न उठते ही जायेंगे। अल्फ नहीं समझा है तो बे को कुछ नहीं समझेंगे। मुफ्त संशय उठाते रहेंगे-ऐसे क्यों, शास्त्र में तो ऐसे कहते हैं इसलिए पहले सबको बाप का परिचय दो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते। 

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) कर्म, अकर्म और विकर्म की गुह्य गति को बुद्धि में रख अब कोई विकर्म नहीं करने हैं, ज्ञान और योग की धारणा करके दूसरों को सुनाना है।

2) सत्य बाप की सत्य नॉलेज देकर मनुष्यों को देवता बनाने की सेवा करनी है। विकारों के दलदल से सबको निकालना है।

वरदान: बाप समान स्थिति द्वारा समय को समीप लाने वाले तत त्वम् के वरदानी भव! 

अपनेपन को मिटाना अर्थात् बाप समान स्थिति में स्थित होकर समय को समीप लाना। जहाँ अपनी देह में या अपनी कोई भी वस्तु में अपनापन है वहाँ समानता में परसेन्टेज है, परसेन्टेज माना डिफेक्ट, ऐसे डिफेक्ट वाला कभी परफेक्ट नहीं बन सकता। परफेक्ट बनने के लिए बाप के लव में सदा लवलीन रहो। सदा लव में लवलीन रहने से सहज ही औरों को भी आप-समान व बाप-समान बना सकेंगे। बापदादा अपने लवली और लवलीन रहने वाले बच्चों को सदा तत त्वम् का वरदान देते हैं।

स्लोगन: एक दो के विचारों को रिगार्ड दो तो स्वयं का रिकार्ड अच्छा बन जायेगा।

Friday, November 6, 2015

Essence of Murli 06-11-2015

06/11/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, the Father has come to reform your character and make the world viceless. You are brothers and your vision should therefore be very pure. 

Question: Even though you children are carefree emperors, you should definitely have one main concern.What is that concern?

Answer: The main concern you should have is how to become pure from impure. It shouldn't be that you belong to the Father and you have to experience punishment in front of the Father. You should have the concern to be liberated from punishment. Otherwise, at that time, you will feel great shame. You are carefree emperors and you have to give everyone the Father's introduction. Those who understand this become the masters of the unlimited. If someone doesn't understand it, that is their fortune. You mustn't be concerned about that.

Om Shanti

The spiritual Father, whose name is Shiva, sits here and explains to His children. The spiritual Father of all is One. First of all, this has to be explained because it then becomes easier for them to understand everything after that. If they don't receive the Father's introduction, they continue to ask questions. First of all, this faith has to be instilled in them. The whole world doesn't know who the God of the Gita is. They say that it is Krishna, whereas we say that Shiva, the Supreme Father, the Supreme Soul, is the God of the Gita. He alone is the Ocean of Knowledge. The main scripture is the Gita, the jewel of all scriptures. They refer to God when they say: O Prabhu, your ways and means are unique! They don't say this to Krishna. The Father, who is the Truth, definitely tells you the truth. The world was at first new and satopradhan. The world is now old and tamopradhan. Only the one Father can change the world. You also have to explain how the Father changes it. Only when souls become satopradhan can the satopradhan world be established. First of all, you children have to remain introverted. You mustn't speak too much. When people come and see too many pictures, they continue to ask questions. First of all, you must only explain one thing. You shouldn't give them any margin to ask too many questions. Tell them: First of all, have faith in the one thing and then we will explain more. Then bring them to the picture of the cycle of 84 births. The Father says: I enter this one at the end of the last of his many births. The Father tells this one: You did not know your own births. The Father explains to us through Prajapita Brahma. First of all, He explains Alpha. When people understand Alpha, they won't have any doubts. Tell them: The Father is the Truth; He doesn't say anything false. Only the unlimited Father teaches us Raja Yoga. Since Shiv Ratri is remembered, Shiva must definitely have come here at some time. In the same way, people celebrate Krishna Jayanti here. He says: I carry out establishment through Brahma. All are the children of that one incorporeal Father. You too are His children, and you then also become the children of Prajapita Brahma. Since establishment is carried out through Prajapita Brahma, there must definitely be Brahmins. Therefore, you are brothers and sisters, and so there is purity in this. This is also a tactic to remain pure while living at home with your family. Brothers and sisters must never have criminal vision for one another. Your vision becomes reformed for 21 births. The Father gives teachings to you children. He reforms your character. The character of the whole world now has to be reformed. There is no character in this old impure world. All have vices in them. This is the impure, vicious world. How will the viceless world be created? No one but the Father can create it. The Father is now making you pure. All of these matters are incognito. I am a soul. I, this soul, have to meet God, the Father. Everyone makes effort to meet God. God is the incorporeal One. Only the Supreme Soul is called the Liberator and the Guide. Those of other religions don't call anyone the Liberator or the Guide. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, comes and liberates everyone, that is, He changes those who are tamopradhan to satopradhan; He guides everyone. Therefore, first of all, make this one thing sit in their intellects. If they don't understand this, leave them alone! If they don't understand Alpha, how would they take benefit through beta? Instead, let them go. You mustn't become confused; you are carefree emperors. There will be obstacles from the devils. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Therefore, first of all, give everyone the Father's introduction. The Father says: Manmanabhav! You claim a status according to the effort you make. The kingdom of the original, eternal deity religion is being established. It is the dynasty of Lakshmi and Narayan. Those of other religions don't establish a dynasty. The Father comes and liberates everyone. Then, each founder of a religion has to come at his own time to establish their own religion. The population has to grow. Everyone has to become impure. Only the Father has the task of purifying the impure. Those people simply come to establish a religion. There is nothing great in that. There is praise of only the One. Those people do so much for Christ. You should explain to them, too, that only God, the Father, is the Liberator and the Guide. Souls of the Christian religion continue to follow him down. Only the one Father liberates you from sorrow. Your intellects should imbibe all of these points very well. Only the one God is called the Merciful One. Not a single human being can have mercy for another. His mercy is unlimited. Only the one Father has mercy for everyone. Everyone in the golden age was happy and peaceful; there was no question of sorrow. When you children explain to someone about Alpha, but are not able to instil their faith in this one aspect, and instead go into other matters, you then say your throat gets tired. First of all, you have to give the Father's introduction. Don't go into other aspects. Tell them: The Father only tells the truth. Only the Father tells all of this to us BKs. He has had all these pictures made. You shouldn't have any doubt about this. A doubtful intellect leads you to destruction. First of all, consider yourself to be a soul and remember the Father so that your sins can be absolved. There is no other way. Only the One is the Purifier, is He not? The Father says: Renounce all relations of the body and constantly remember Me alone! The one whom God enters also has to make effort to become satopradhan. Only by making effort will he become that. He also shows us the connection between Brahma and Vishnu. The Father teaches you Brahmins Raja Yoga, and you thereby become the masters of the land of Vishnu. It is you who take 84 births and become shudras at the end. Then, the Father comes and changes you from shudras into Brahmins. No one else can explain this. The first thing is to give the Father's introduction. The Father says: I have to come here to purify the impure. It isn't that I give inspiration from up above. This one's name is "The Lucky Chariot", so He definitely enters this one. This is the last of his many births. He then becomes satopradhan. The Father shows you the method to use for this: Consider yourself to be a soul and constantly remember Me alone! I alone am the Almighty Authority. By remembering Me you will receive power; you will become the masters of the world. They received their inheritance of becoming Lakshmi and Narayan from the Father. He explains how they received it. At the museums and exhibitions, tell them: First understand just the one thing. Then go on to other topics. It is most essential to understand this. Otherwise, you won't be able to be liberated from sorrow. Until you have faith in this, you won't be able to understand anything. At this time the world is corrupt. The world of deities was elevated. You have to explain in this way. You have to feel the pulse of human beings to see whether they understand anything or whether they are sitting there like a crazy person. If they are crazy, leave them alone. You mustn't waste your time. You need to have an intellect that recognises those who are thirsty and worthy of this knowledge. The faces of those who understand this will change. First of all, tell them some good news: You receive an unlimited inheritance from the unlimited Father. Baba knows that some children are very weak in the pilgrimage of remembrance. It requires effort to stay in remembrance of the Father. It is in this that Maya creates many obstacles. This is predestined in the play. The Father sits here and explains how this play is predestined. Human beings in the world don't understand anything, even slightly. When you stay in remembrance of the Father you will remain stable while explaining to others. Otherwise, they will keep pointing out your defects. Baba says: You don't have to go through any great difficulty. Establishment definitely has to take place. No one can prevent destiny. You have to remain enthusiastic. We are receiving our unlimited inheritance from the Father. The Father says: Constantly remember Me alone! Sit and explain with a lot of love. While remembering the Father, there should be tears of love. All other relationships are iron aged. This relationship is with the spiritual Father. These tears of yours will become the beads of the rosary of victory. There are very few who remember the Father with that much love. Make as much time as possible to make your future elevated. There should not be too many children at the exhibitions nor is there any need to have too many pictures. The number one picture is: "Who is the God of the Gita?" Next to that picture, place the picture of Lakshmi and Narayan and then the picture of the ladder. That's all! There's no need to have too many pictures. You children have to increase the pilgrimage of remembrance as much as possible. The main concern you must have is how to become pure from impure. When you belong to Baba, it is a matter of great degradation if you have to go in front of Him and experience punishment. If you don't now stay on the pilgrimage of remembrance, you will be very ashamed when you are in front of the Father at the time of punishment. The greatest concern you should have is that you don't experience punishment. You are rup and basant. Baba says: I too am Rup and Basant. I am a tiny point and also the Ocean of Knowledge. He fills you souls with all the knowledge. You have all the secrets of 84 births in your intellects. You become embodiments of knowledge and shower knowledge on others. Each jewel of knowledge is so invaluable that no one can put a price on it. This is why Baba says: You are multimillion times fortunate. The symbol of a lotus at your feet has been portrayed. No one can understand this. People have the name "Padampati" (multimillionaire) and others think that those with this name must have a great deal of wealth. There is also the surname "Padampati". The Father explains everything. He then says: The main thing is to remember the Father and the cycle of 84 births. This knowledge is for the people of Bharat. You are the ones who take 84 births. This too is something that has to be understood. None of the sannyasis etc. are called swadarshanchakradhari. Even deities should not be called that. Deities don't have any knowledge. Tell them: We have all the knowledge. Even Lakshmi and Narayan don't have the knowledge. Everything the Father explains is accurate. This knowledge is so wonderful! You are very incognito students. You say that you are going to university and that God is teaching you. What is your aim and objective? We are to become this (Lakshmi and Narayan). When people hear this, they will be amazed. You say: We are going to our head office. What are you studying? We are studying the study to change from ordinary humans into deities; from beggars into princes. Your pictures are first class. Wealth should always be donated to those who are worthy. Where will you find worthy ones? In the temples of Shiva, Lakshmi and Narayan and Rama and Sita. Go there and serve them! Don't waste your time! Go to the River Ganges and ask the people there: Is the Ganges the Purifier or is the Supreme Father, the Supreme Soul, the Purifier? Will this water grant salvation to everyone or will the unlimited Father do that? You can explain this very well. Show people the way to become the masters of the world. Donate this to human beings and make those who are like shells into diamonds and the masters of the world. Bharat was the master of the world. Your Brahmin clan is higher than that of the deities. This Baba understands that he is the one and only beloved son of the Father. Baba has taken this body of mine on loan. No one, apart from you, is able to understand these things. Baba is riding in my chariot. I have sat Baba on my shoulders, that is, I have given this body to Baba to do service. He gives so much in return for that! He makes me the highest of all and sits me on His shoulders. He makes me number one. When a father loves his children very much, he sits them on his shoulders. A mother only takes a child in her lap, but a father sits a child on his shoulders. A school is never called imagination! History and geography are studied in a school. Can that be imagination? This is also the history and geography of the world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children. 

Essence for Dharna:

1. Sit and remember the spiritual Father with a lot of love. When you have tears of love in remembrance, those tears will become beads of the rosary of victory. Use your time in a worthwhile way to create your future reward.

2. Don't talk too much, but become introverted and give everyone the message of Alpha. Only have the one concern of not performing any actions due to which you would have to experience punishment.

Blessing: May you attain the status of a world emperor and be filled with the stock of all powers. 

Souls who are to achieve the status of a world emperor do not make effort just for themselves. It is very common to pass or overcome obstacles and the tests that come in life, but souls who are to become world emperors would have a full stock of all the powers from now. Every second and every thought of theirs would be for others. Their bodies, minds, wealth, time and breath would continue to be used in a worthwhile way for world benefit.

Slogan: Even one weakness finishes many specialities; therefore, discard all weaknesses.

06-11-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - बाप आये हैं वाइसलेस दुनिया बनाने, तुम्हारे कैरेक्टर सुधारने, तुम भाई-भाई हो तो तुम्हारी दृष्टि बहुत शुद्ध होनी चाहिए” 

प्रश्न: तुम बच्चे बेफिक्र बादशाह हो फिर भी तुम्हें एक मूल फिकरात अवश्य होनी चाहिए - कौन सी?

उत्तर: हम पतित से पावन कैसे बनें - यह है मूल फिकरात। ऐसा न हो बाप का बनकर फिर बाप के आगे सज़ायें खानी पड़ें। सज़ाओं से छूटने की फिकरात रहे, नहीं तो उस समय बहुत लज्जा आयेगी। बाकी तुम बेपरवाह बादशाह हो, सबको बाप का परिचय देना है। कोई समझता है तो बेहद का मालिक बनता, नहीं समझता है तो उसकी तकदीर। तुम्हें परवाह नहीं।

ओम् शान्ति।

रूहानी बाप जिसका नाम शिव है, वह बैठ अपने बच्चों को समझाते हैं। रूहानी बाप सभी का एक ही है। पहले-पहले यह बात समझानी है तो फिर आगे समझना सहज होगा। अगर बाप का परिचय ही नहीं मिला होगा तो प्रश्न करते रहेंगे। पहले-पहले तो यह निश्चय कराना है। सारी दुनिया को यह पता नहीं है कि गीता का भगवान कौन है। वह कृष्ण के लिए कह देते, हम कहते परमपिता परमात्मा शिव गीता का भगवान है। वही ज्ञान का सागर है। मुख्य है सर्वशास्त्र मई शिरोमणी गीता। भगवान के लिए ही कहते हैं - हे प्रभू तेरी गत मत न्यारी। कृष्ण के लिए ऐसे नहीं कहेंगे। बाप जो सत्य है वह जरूर सत्य ही सुनायेंगे। दुनिया पहले नई सतोप्रधान थी। अभी दुनिया पुरानी तमोप्रधान है। दुनिया को बदलने वाला एक बाप ही है। बाप कैसे बदलते हैं वह भी समझाना चाहिए। आत्मा जब सतोप्रधान बनें तब दुनिया भी सतोप्रधान स्थापन हो। पहले-पहले तुम बच्चों को अन्तर्मुख होना है। जास्ती तीक-तीक नहीं करनी है। अन्दर घुसते हैं तो बहुत चित्र देख पूछते ही रहते हैं। पहले-पहले समझानी ही एक बात चाहिए। जास्ती पूछने की मार्जिन न मिले। बोलो, पहले तो एक बात पर निश्चय करो फिर आगे समझायें फिर तुम 84 जन्मों के चक्र पर ले आ सकते हो। बाप कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश करता हूँ। इनको ही बाप कहते हैं - तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। बाप हमको प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा समझाते हैं। पहले-पहले अल्फ पर ही समझाते हैं। अल्फ समझने से फिर कोई संशय नहीं होगा। बोलो बाप सत्य है, वह भी असत्य नहीं सुनाते। बेहद का बाप ही राजयोग सिखलाते हैं। शिवरात्रि गाई जाती है तो जरूर शिव यहाँ आये होंगे ना। जैसे कृष्ण जयन्ती भी यहाँ मनाते हैं। कहते हैं मैं ब्रह्मा द्वारा स्थापना करता हूँ। उस एक ही निराकार बाप के सब बच्चे हैं। तुम भी उनकी औलाद हो और फिर प्रजापिता ब्रह्मा की भी औलाद हो। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा स्थापना की तो जरूर ब्राह्मण-ब्राह्मणियां होंगे। बहन-भाई हो गये, इसमें पवित्रता रहती है। गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र रहने की यह है भीती। बहन-भाई हैं तो कभी क्रिमिनल दृष्टि नहीं होनी चाहिए। 21 जन्म दृष्टि सुधर जाती है। बाप ही बच्चों को शिक्षा देंगे ना। कैरेक्टर सुधारते हैं। अभी सारी दुनिया के कैरेक्टर सुधरने हैं। इस पुरानी पतित दुनिया में कोई कैरेक्टर नहीं। सबमें विकार हैं। यह है ही पतित विशश दुनिया। फिर वाइसलेस दुनिया कैसे बनेंगी? सिवाए बाप के कोई बना न सके। अभी बाप पवित्र बना रहे हैं। यह हैं सब गुप्त बातें। हम आत्मा हैं, आत्मा को परमात्मा बाप से मिलना है। सब पुरूषार्थ करते ही हैं भगवान से मिलने के लिए। भगवान एक निराकार है। लिबरेटर, गाइड भी परमात्मा को ही कहा जाता है। दूसरे धर्म वाले कोई को लिबरेटर, गाइड नहीं कहेंगे। परमपिता परमात्मा ही आकर लिबरेट करते हैं अर्थात् तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाते हैं। गाइड भी करते हैं तो पहले-पहले यह एक ही बात बुद्धि में बिठाओ। अगर न समझें तो छोड़ देना चाहिए। अल्फ को नहीं समझा तो बे से क्या फायदा, भल चले जायें। तुम मूँझो नहीं। तुम बेपरवाह बादशाह हो। असुरों के विघ्न पड़ने ही हैं। यह है ही रूद्र ज्ञान यज्ञ। तो पहले-पहले बाप का परिचय देना है। बाप कहते हैं मनमनाभव। जितना पुरूषार्थ करेंगे उस अनुसार पद पायेंगे। आदि सनातन देवी-देवता धर्म का राज्य स्थापन हो रहा है। इन लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी है। और धर्म वाले कोई डिनायस्टी स्थापन नहीं करते हैं। बाप तो आकर सबको मुक्त करते हैं। फिर अपने-अपने समय पर और-और धर्म स्थापकों को आकर अपना धर्म स्थापन करना है। वृद्धि होनी है। पतित बनना ही है। पतित से पावन बनाना यह तो बाप का ही काम है। वह तो सिर्फ आकर धर्म स्थापन करेंगे। उसमें बड़ाई की बात ही नहीं। महिमा है ही एक की। वो तो क्राइस्ट के पिछाड़ी कितना करते हैं। उनको भी समझाया जाए लिबरेटर गाइड तो गॉड फादर ही है। क्राइस्ट के पिछाड़ी क्रिश्चियन धर्म की आत्मायें आती रहती हैं, नीचे उतरती रहती हैं। दु:ख से छुड़ाने वाला तो एक ही बाप है। यह सब प्वाइंट्स बुद्धि में अच्छी रीति धारण करनी है। एक गॉड को ही मर्सीफुल कहा जाता है। एक बाप ही सब पर रहम करते हैं। सतयुग में सब सुख-शान्ति में रहते हैं। दु:ख की बात ही नहीं। बच्चे एक बात अल्फ पर किसको निश्चय कराते नहीं, और-और बातों में चले जाते हैं फिर कहते गला ही खराब हो गया। पहले-पहले बाप का परिचय देना है। तुम और बातों में जाओ ही नहीं। बोलो बाप तो सत्य बोलेंगे ना। हम बी.के. को बाप ही सुनाते हैं। यह चित्र सब उसने बनवाये हैं, इसमें संशय नहीं लाना चाहिए। संशयबुद्धि विनशन्ती। पहले तुम अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। और कोई उपाय नहीं। पतित-पावन तो एक ही है ना। बाप कहते हैं देह के सब सम्बन्ध छोड़ मामेकम् याद करो। बाप जिसमें प्रवेश करते हैं, उनको भी फिर पुरूषार्थ कर सतोप्रधान बनना है। बनेंगे पुरूषार्थ से फिर ब्रह्मा और विष्णु का कनेक्शन भी बताते हैं। बाप तुम ब्राह्मणों को राजयोग सिखलाते हैं तो तुम विष्णुपुरी के मालिक बनते हो। फिर तुम ही 84 जन्म ले अन्त में शूद्र बनते हो। फिर बाप आकर शूद्र से ब्राह्मण बनाते हैं। ऐसे और कोई बता न सके। पहली-पहली बात है बाप का परिचय देना। बाप कहते हैं मुझे ही पतितों को पावन बनाने यहाँ आना पड़ता है। ऐसे नहीं कि ऊपर से प्रेरणा देता हूँ। इनका ही नाम है भागीरथ। तो जरूर इनमें ही प्रवेश करेंगे। यह है भी बहुत जन्मों के अन्त का जन्म। फिर सतोप्रधान बनते हैं। उसके लिए बाप युक्ति बताते हैं कि अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो। मैं ही सर्वशक्तिमान् हूँ। मुझे याद करने से तुम्हारे में शक्ति आयेगी। तुम विश्व के मालिक बनेंगे। यह लक्ष्मी-नारायण का वर्सा इन्हों को बाप से मिला है। कैसे मिला वह समझाते हैं। प्रदर्शनी, म्युजियम आदि में भी तुम कह दो कि पहले एक बात को समझो, फिर और बातों में जाना। यह बहुत जरूरी है समझना। नहीं तो तुम दु:ख से छूट नहीं सकेंगे। पहले जब तक निश्चय नहीं किया है तो तुम कुछ समझ नहीं सकेंगे। इस समय है ही भ्रष्टाचारी दुनिया। देवी-देवताओं की दुनिया श्रेष्ठाचारी थी। ऐसे-ऐसे समझाना है। मनुष्यों की नब्ज भी देखनी चाहिए-कुछ समझता है या तवाई है? अगर तवाई है तो फिर छोड़ देना चाहिए। टाइम वेस्ट नहीं करना चाहिए। चात्रक, पात्र को परखने की भी बुद्धि चाहिए। जो समझने वाला होगा उनका चेहरा ही बदल जायेगा। पहले-पहले तो खुशी की बात देनी है। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा मिलता है ना। बाबा जानते हैं याद की यात्रा में बच्चे बहुत ढीले हैं। बाप को याद करने की मेहनत है। उसमें ही माया बहुत विघ्न डालती है। यह भी खेल बना हुआ है। बाप बैठ समझाते हैं - कैसे यह खेल बना-बनाया है। दुनिया के मनुष्य तो रिंचक भी नहीं जानते। बाप की याद में रहने से तुम किसको समझाने में भी एकरस होंगे। नहीं तो कुछ न कुछ नुक्स (कमी) निकालते रहेंगे। बाबा कहते हैं तुम जास्ती कुछ भी तकलीफ न लो। स्थापना तो जरूर होनी ही है। भावी को कोई भी टाल नहीं सकते। हुल्लास में रहना चाहिए। बाप से हम बेहद का वर्सा ले रहे हैं। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। बहुत प्रेम से बैठ समझाना है। बाप को याद करते प्रेम में आंसू आ जाने चाहिए। और तो सभी सम्बन्ध हैं कलियुगी। यह है रूहानी बाप का सम्बन्ध। यह तुम्हारे आंसू भी विजयमाला के दाने बनते हैं। बहुत थोड़े हैं - जो ऐसा प्रेम से बाप को याद करते हैं। कोशिश कर जितना हो सके अपना टाइम निकाल अपने भविष्य को ऊंचा बनाना चाहिए। प्रदर्शनी में इतने ढेर बच्चे नहीं होने चाहिए। न इतने चित्रों की दरकार है। नम्बरवन चित्र है गीता का भगवान कौन? उसके बाजू में लक्ष्मी-नारायण का, सीढ़ी का। बस। बाकी इतने चित्र कोई काम के नहीं। तुम बच्चों को जितना हो सके याद की यात्रा को बढ़ाना है। मूल फिकरात रखनी है कि पतित से पावन कैसे बनें! बाबा का बनकर और फिर बाबा के आगे जाकर सज़ा खायें यह तो बड़ी दुर्गति की बात है। अभी याद की यात्रा पर नहीं रहेंगे तो फिर बाप के आगे सज़ा खाने समय बहुत-बहुत लज्जा आयेगी। सज़ा न खानी पड़े, यह सबसे जास्ती फुरना रखना है। तुम रूप भी हो, बसन्त भी हो। बाबा भी कहते हैं मैं रूप भी हूँ, बसन्त भी हूँ। छोटी सी बिन्दी हूँ और फिर ज्ञान का सागर भी हूँ। तुम्हारी आत्मा में सारा ज्ञान भरते हैं। 84 जन्मों का सारा राज़ तुम्हारी बुद्धि में है। तुम ज्ञान का स्वरूप बन ज्ञान की वर्षा करते हो। ज्ञान का एक-एक रत्न कितना अमूल्य है, इनकी वैल्यु कोई कर न सके इसलिए बाबा कहते हैं पदमापदम भाग्यशाली। तुम्हारे चरणों में पदम की निशानी भी दिखाते हैं, इनको कोई समझ न सके। मनुष्य पदमपति नाम रखते हैं। समझते हैं इनके पास बहुत धन है। पदमपति का एक सरनेम भी रखते हैं। बाप सब बातें समझाते हैं। फिर कहते हैं - मूल बात है कि बाप को और 84 के चक्र को याद करो। यह नॉलेज भारतवासियों के लिए ही है। तुम ही 84 जन्म लेते हो। यह भी समझ की बात है ना। और कोई सन्यासी आदि को स्वदर्शन चक्रधारी भी नहीं कहेंगे। देवताओं को भी नहीं कहेंगे। देवताओं में ज्ञान होता ही नहीं। तुम कहेंगे हमारे में सारा ज्ञान है, इन लक्ष्मी- नारायण में नहीं है। बाप तो यथार्थ बात समझाते हैं ना।

यह ज्ञान बड़ा वन्डरफुल है। तुम कितने गुप्त स्टूडेन्ट हो। तुम कहेंगे हम पाठशाला में जाते हैं, भगवान हमको पढ़ाते हैं। एम ऑबजेक्ट क्या है? हम यह (लक्ष्मी-नारायण) बनेंगे। मनुष्य सुनकर वन्डर खायेंगे। हम अपने हेड ऑफिस में जाते हैं। क्या पढ़ते हो? मनुष्य से देवता, बेगर से प्रिन्स बनने की पढ़ाई पढ़ रहे हो। तुम्हारे चित्र भी फर्स्टक्लास हैं। धन दान भी हमेशा पात्र को किया जाता है। पात्र तुमको कहाँ मिलेंगे? शिव के, लक्ष्मी-नारायण के, राम-सीता के मन्दिरों में। वहाँ जाकर तुम उन्हों की सेवा करो। अपना टाइम वेस्ट नहीं करो। गंगा नदी पर भी जाकर तुम समझाओ - पतित-पावनी गंगा है या परमपिता परमात्मा है? सर्व की सद्गति यह पानी करेगा या बेहद का बाप करेगा? तुम इस पर अच्छी रीति समझा सकते हो। विश्व का मालिक बनने का रास्ता बताते हो। दान करते हो, कौड़ी जैसे मनुष्य को हीरे जैसे विश्व का मालिक बनाते हो। भारत विश्व का मालिक था ना। तुम ब्राह्मणों का देवताओं से भी उत्तम कुल है। यह बाबा तो समझते हैं - मैं बाप का एक ही सिकीलधा बच्चा हूँ। बाबा ने हमारा यह शरीर लोन पर लिया है। तुम्हारे सिवाए और कोई भी यह बातें समझ न सकें। बाबा की हमारे पर सवारी की हुई है। हमने बाबा को कुल्हे पर बिठाया है अर्थात् शरीर दिया है कि सर्विस करो। उनका एवजा फिर वह कितना देते हैं। जो हमको सबसे ऊंच कन्धे पर चढ़ाते हैं। नम्बरवन ले जाते हैं। बाप को बच्चे प्यारे लगते हैं, तो उनको कन्धे पर चढ़ाते हैं ना। मॉ बच्चे को सिर्फ गोद तक लेती है बाप तो कन्धे पर चढ़ाते हैं। पाठशाला को कभी कल्पना नहीं कहा जाता। स्कूल में हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ते हैं तो क्या वह कल्पना हुई? यह भी वर्ल्ड की हिस्ट्री- जॉग्राफी है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते। 

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) बहुत प्रेम से बैठकर रूहानी बाप को याद करना है। याद में प्रेम के ऑसू आ जायें तो वह ऑसू विजय माला का दाना बन जायेंगे। अपना समय भविष्य प्रालब्ध बनाने में सफल करना है।

2) अन्तर्मुखी हो सबको अल्फ का परिचय देना है, ज्यादा तीक-तीक नहीं करनी है। एक ही फुरना रहे कि ऐसा कोई कर्तव्य न हो जिसकी सज़ा खानी पड़े।

वरदान: विश्व महाराजन की पदवी प्राप्त करने वाले सर्व शक्तियों के स्टॉक से सम्पन्न (भरपूर) भव! 

जो विश्व महाराजन की पदवी प्राप्त करने वाली आत्मायें हैं उनका पुरूषार्थ सिर्फ अपने प्रति नहीं होगा। अपने जीवन में आने वाले विघ्न वा परीक्षाओं को पास करना-यह तो बहुत कॉमन है लेकिन जो विश्व महाराजन बनने वाली आत्मायें हैं उनके पास अभी से ही सर्व शक्तियों का स्टॉक भरपूर होगा। उनका हर सेकण्ड हर संकल्प दूसरों के प्रति होगा। तन-मन-धन समय श्वांस सब विश्व कल्याण में सफल होता रहेगा।

स्लोगन: एक भी कमजोरी अनेक विशेषताओं को समाप्त कर देती है इसलिए कमजोरियों को तलाक दो।