Thursday, August 30, 2012

Essence of Murli 30-08-2012

Essence: Sweet children, you know this unlimited play in the form of a drama. You are hero actors. The Father has now come and awakened you. 

Question: What are the Father’s orders that you obey and are thereby saved from the suffering of vices? 

Answer: The Father’s orders are: First of all sit in a furnace (bhatthi) for seven days. When a soul, suffering from the five vices comes to you, tell him: You need to give seven days of your time. Give a minimum of seven days so that we can explain to you how the illness of the five vices can be removed. Tell those who ask too many questions: First of all do the seven days’ course. 

Song: Salutations to Shiva. 

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children. 

Essence for dharna: 
1. Don’t have doubts about anything. Watch the drama as a detached observer. Never spoil your register. 
2. In order to reach your karmateet stage, make full effort to stay in remembrance. Remember the Father with an honest heart. Check the temperature of your stage by yourself. 

Blessing: May you experience the happiness of success by using every treasure in a worthwhile way at every second and become an embodiment of success. 

The special way to become an embodiment of success is to use your every second, every breath and every treasure in a worthwhile way. If you wish to experience all types of success in your thoughts, words, deeds, relationships and connections, then continue to use everything in a worthwhile way and do not let anything go to waste. Whether you use something in a worthwhile way for yourself or for other souls, you will automatically continue to experience happiness from using it in a worthwhile way, because to use something in a worthwhile way means to achieve success at present and to accumulate for the future. 

Slogan: When nothing attracts you, even in your thoughts, you would then be said to be close to perfection. 

मुरली सार:- ''मीठे बच्चे - तुम इस बेहद लीला रूपी नाटक को जानते हो, तुम हो हीरो पार्टधारी तुम्हें बाप ने आकर अभी जागृत किया है'' 

प्रश्न: बाप का फरमान कौन सा है? जिसे पालन करने से विकारों की पीड़ा से बच सकते हैं? 

उत्तर: बाप का फरमान है - पहले 7 रोज़ भट्ठी में बैठो। तुम बच्चों के पास जब कोई आत्मा 5 विकारों से पीड़ित आती है तो उसे बोलो कि 7 रोज़ का टाइम चाहिए। कम से कम 7 रोज़ दो तो तुम्हें हम समझायें कि 5 विकारों की बीमारी कैसे दूर हो सकती है। जास्ती प्रश्न-उत्तर करने वालों को तुम बोल सकते हो कि पहले 7 रोज़ का कोर्स करो। 

गीत:- ओम् नमो शिवाए.... 

धारणा के लिए मुख्य सार: 
1) किसी भी बात में संशय नहीं उठाना है। ड्रामा को साक्षी हो देखना है। कभी भी अपना रजिस्टर खराब नहीं करना है। 
2) कर्मातीत अवस्था तक पहुँचने के लिए याद में रहने का पूरा पुरूषार्थ करना है। सच्चे दिल से बाप को याद करना है। अपनी स्थिति का टैम्प्रेचर अपने आप देखना है। 

वरदान: हर सेकण्ड, हर खजाने को सफल कर सफलता की खुशी अनुभव करने वाले सफलतामूर्त भव 

सफलता मूर्त बनने का विशेष साधन है-हर सेकण्ड को, हर श्वांस को, हर खजाने को सफल करना। यदि संकल्प, बोल, कर्म, सम्बन्ध-सम्पर्क में सर्व प्रकार की सफलता का अनुभव करना चाहते हो तो सफल करते जाओ, व्यर्थ नहीं जाये। चाहे स्व के प्रति सफल करो, चाहे और आत्माओं के प्रति सफल करो तो आटोमेटिकली सफलता की खुशी अनुभव करते रहेंगे क्योंकि सफल करना अर्थात् वर्तमान में सफलता प्राप्त करना और भविष्य के लिए जमा करना। 

स्लोगन: जब संकल्प में भी कोई आकर्षण आकर्षित न करे तब कहेंगे सम्पूर्णता की समीपता। 

Murli Song

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.