Wednesday, August 29, 2012

Essence of Murli 29-08-2012

Essence: Sweet children, you now have to become lighthouses. In one eye, you have the land of liberation and in the other, the land of liberation-in-life. Continue to show everyone the path. 

Question: What is the method to accumulate an account of an imperishable status? 

Answer: Constantly spin the discus of self-realization in your intellect. While moving around, remember your land of peace and your land of happiness. Then, on the one hand, your sins will be absolved and, on the other hand, your account of an imperishable status will accumulate. The Father says: If you want to become a lighthouse, have the land of peace in one eye, and the land of happiness in the other eye. 

Song: Awaken, o brides, awaken! The new age is about to come. 

Essence for dharna: 
1. Have regard for the Father and the study. Create methods to refresh yourself from time to time and become an instrument to bring benefit to many. 
2. Talk only about things of knowledge among yourselves. Remove any trace of anger. If you hear anyone speaking harsh words, just ignore it. 

Blessing: May you be innocent of waste and be an embodiment of ignorance and experience divinity by making your deity sanskars emerge. 

When you children were in your golden-aged kingdom, you were innocent of waste and of Maya and this is why deities are said to be saints and great souls. So, make those sanskars of yours emerge and become an embodiment of ignorance of all waste. Be ignorant of wasting time, breath, words and actions, that is, be innocent. When you are ignorant of all waste, you will easily and naturally experience divinity. Therefore, do not think that you are making effort anyway, but be the soul (living being) and enable actions to be performed through your chariot (body). Do not repeat a mistake twice. 

Slogan: A spiritual rose is one who remains loving and detached in the midst of thorns. 

मुरली सार:- ''मीठे बच्चे - तुम्हें अब लाइट हाउस बनना है, तुम्हारी एक आंख में मुक्तिधाम, दूसरी आंख में जीवन मुक्तिधाम है, तुम सबको रास्ता बताते रहो'' 

प्रश्न: अविनाशी पद का खाता जमा होता रहे, उसकी विधि क्या है? 

उत्तर: सदा बुद्धि में स्वदर्शन चक्र फिरता रहे। चलते-फिरते अपना शान्तिधाम और सुखधाम याद रहे तो एक तरफ विकर्म विनाश होंगे दूसरे तरफ अविनाशी पद का खाता भी जमा होता जायेगा। बाप कहते हैं तुमको लाइट हाउस बनना है एक आंख में शान्तिधाम, दूसरी आंख में सुखधाम रहे। 

गीत:- जाग सजनियां जाग... 

धारणा के लिए मुख्य सार: 
1) बाप का व पढ़ाई का कदर रखना है। समय प्रति समय स्वयं को रिफ्रेश करने की युक्तियां निकालनी है। बहुतों के कल्याण के निमित्त बनना है। 
2) आपस में ज्ञान की ही बातें करनी हैं। क्रोध का अंश भी निकाल देना है। कोई कडुवा शब्द बोले तो सुना न सुना कर देना है। 

वरदान: अपने देवताई संस्कारों को इमर्ज कर दिव्यता का अनुभव करने वाले व्यर्थ से इनोसेंट, अविद्या स्वरूप भव 

जब आप बच्चे अपने सतयुगी राज्य में थे तो व्यर्थ वा माया से इनोसेंट थे इसलिए देवताओं को सेंट वा महान आत्मा कहते हैं। तो अपने वही संस्कार इमर्ज कर, व्यर्थ के अविद्या स्वरूप बनो। समय, श्वांस, बोल, कर्म, सबमें व्यर्थ की अविद्या अर्थात् इनोसेंट। जब व्यर्थ की अविद्या होगी तब दिव्यता स्वत: और सहज अनुभव होगी इसलिए यह नहीं सोचो कि पुरूषार्थ तो कर रहे हैं - लेकिन पुरूष बन इस रथ द्वारा कार्य कराओ। एक बार की गलती दुबारा रिपीट न हो। 

स्लोगन: रूहानी गुलाब वह है जो कांटों के बीच में रहते भी न्यारे और प्यारे रहते हैं। 

Murli Song

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.