Monday, July 30, 2012

Essence of Murli 30-07-2012

Essence: Sweet children, you are now being taken beyond with the Father’s glance. To be taken beyond means to become a master of heaven. 

Question: Who can put into practice the direction to break away from everyone else and to connect oneself to only the One? 

Answer: Those who have the aim and objective clearly in their intellect. Your aim and objective is to go to the land of liberation. You have to remove your intellect’s yoga even from your own body. Practise staying in silence, beyond talkie and movie, because you have to go into silence, that is, into nirvana (the land beyond sound). 

Song: Why should the moth not die? 

Essence for dharna: 
1. Remain stable in your original religion and experience silence because it is now time to go to nirvana, the land beyond sound. 
2. You are the children of the Bestower of Happiness. Therefore, give everyone happiness. Do not cause sorrow for anyone. Become a true flower. Serve to change thorns into flowers. 

Blessing: May you have faith in the intellect and be a destroyer of obstacles and remain constantly unshakeable by knowing the secrets of knowledge. 

By your remaining stable in the stage of a destroyer of obstacles, no matter how big an obstacle is, it will be experienced to be like a game. Because of considering it to be a game, you will never be afraid of obstacles, but will instead become victorious with great happiness and also remain double light. With your awareness of the knowledge of the drama, every obstacle feels as though it is nothing new. It will not seem new, but something from long ago. You have been victorious innumerable times. Achalghar (home of stability) is the memorial of those children who have such faith in the intellect and who understand the secrets of knowledge. 

Slogan: When you have the power of determination with you, success will become the garland around your neck. 

मुरली सार:- ''मीठे बच्चे - अभी तुम बाप की नज़र से निहाल होते हो, निहाल होना अर्थात् स्वर्ग का मालिक बनना'' 

प्रश्न: और संग तोड़ एक संग जोड़.... इस डायरेक्शन को अमल में कौन ला सकता है? 

उत्तर: जिनकी बुद्धि में एम आब्जेक्ट क्लीयर है। तुम्हारी एम-आब्जेक्ट है मुक्तिधाम में जाने की, उसके लिए शरीर से भी बुद्धियोग निकालना पड़े। टॉकी, मूवी से भी परे साइलेन्स में रहने का अभ्यास करो क्योंकि तुमको साइलेन्स अथवा निर्वाण में जाना है। 

गीत:- जले न क्यों परवाना.... 

धारणा के लिए मुख्य सार: 
1) अपने स्वधर्म में स्थित रह साइलेन्स का अनुभव करना है क्योंकि अब वाणी से परे निर्वाणधाम में जाने का समय है। 
2) सुख दाता के बच्चे हैं इसलिए सबको सुख देना है। किसी को भी दु:ख नहीं देना है। सच्चा फ्लावर बनना है। कांटों को फूल बनाने की सेवा करनी है। 

वरदान: ज्ञान के राज़ों को समझ सदा अचल रहने वाले निश्चयबुद्धि, विघ्न-विनाशक भव 

विघ्न-विनाशक स्थिति में स्थित रहने से कितना भी बड़ा विघ्न खेल अनुभव होगा। खेल समझने के कारण विघ्नों से कभी घबरायेंगे नहीं लेकिन खुशी-खुशी से विजयी बनेंगे और डबल लाइट रहेंगे। ड्रामा के ज्ञान की स्मृति से हर विघ्न नथिंगन्यु लगता है। नई बात नहीं लगेगी, बहुत पुरानी बात है। अनेक बार विजयी बनें हैं - ऐसे निश्चयबुद्धि, ज्ञान के राज़ को समझने वाले बच्चों का ही यादगार अचलघर है। 

स्लोगन: दृढ़ता की शक्ति साथ हो तो सफलता गले का हार बन जायेगी। 

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.